HomeUncategorizedअफीम की खेती करके आप कमा सकते हो करोड़ों रुपये, जानिये कहाँ...

अफीम की खेती करके आप कमा सकते हो करोड़ों रुपये, जानिये कहाँ से लेनी पड़ेगी परमिशन.

अफीम की खेती : वैसे अफीम को एक औषधि के रूप में अधिक जाना जाता है। लेकिन, आपको बता दें कि अफीम का इस्तेमाल कई दवाओं में भी किया जाता है। तो ऐसे में अफीम की ‘वैध’ खेती को भी देश के किसानों के लिए असीमित लाभ का सौदा माना जाता है। और अगर इसकी ‘वैध’ खेती नहीं की जाती है, तो किसानों को जेल की सजा भुगतनी पड़ सकती है। इसलिए जरूरी है कि किसान जरूरी मंजूरी लेकर ही अफीम की खेती करें। आइए जानते हैं कि अफीम की खेती के लिए किसान किससे और कैसे मंजूरी ले सकते हैं। साथ ही अफीम की खेती से किसान कितना मुनाफा कमा सकते हैं।

Afeem ki kheti

अफीम की खेती केवल दवा निर्माण के लिए स्वीकृत

वैसे पूरे देश में अफीम की खेती को अवैध खेती भी माना जाता है। जिसका पेड़ लगाना जेल की सजा पाने के लिए काफी है। लेकिन, इसकी खेती मुख्य रूप से दवा निर्माण के लिए की जा सकती है। जिसके तहत वर्तमान में उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश में किसानों द्वारा अफीम की खेती की जा रही है।

राज्य के नारकोटिक्स विभाग से लेनी होगी मंजूरी

देश के किसी भी राज्य में अफीम की खेती करने के लिए किसानों को नारकोटिक्स विभाग से अनुमति लेनी पड़ती है। बता दें कि बिना अनुमति के अफीम की खेती करना कानूनन अपराध है। ऐसा करने से किसानों के साथ बड़ी और सख्त कानूनी कार्रवाई की जा सकती है। लेकिन, अनुमति लेकर की गई यह खेती किसानों को अमीर भी बना रही है। कानूनी मंजूरी के बाद अफीम की खेती कर किसान भी करोड़ों का मुनाफा कमा रहे हैं।

कई बीमारियों की दवा है अफीम

आयुर्वेद विशेषज्ञ रेखा ने बताया कि अफीम से निकलने वाला चिपचिपा पदार्थ भी काफी नशीला होता है. लेकिन, आयुर्वेद में इसका इस्तेमाल कई बीमारियों के इलाज के लिए भी किया जाता है। इससे कैंसर, पेट के रोग, नींद की दवाएं बनती हैं। यह शरीर के घावों को रोकने के लिए सबसे अच्छी दवा के रूप में भी प्रयोग किया जाता है। वही यूनानी डॉक्टर कहते हैं कि अफीम पुराने सिरदर्द को भी ठीक करती है। अफीम जोड़ों के दर्द, बहुमूत्रता, पीठ दर्द, सांस की बीमारियों, खूनी दस्त, दस्त आदि के लिए रामबाण औषधि है। लेकिन, नशा के लिए इसका सेवन मनुष्य के लिए भी घातक है। हरदोई के जिला उद्यान अधिकारी सुरेश कुमार ने आगे बताया कि पूरी जानकारी के साथ प्रशासन द्वारा निर्धारित नियमानुसार इसकी खेती करने वाले किसान भी करोड़ों का मुनाफा कमा रहे हैं.

अफीम में फूल 120 दिन बाद आते हैं

बता दें कि खसखस ​​में फूल आने के बाद जो फल आता है। इसे डोडा कहा जाता है। हरदोई जिला उद्यान अधिकारी सुरेश कुमार ने बातचीत में बताया कि बुवाई के करीब 120 दिन बाद अफीम के पौधे में फूल आने लगते हैं और ठीक 25 दिन बाद फूल भी डोडा यानी फल में बदल जाते हैं. बाद में किसान इस फल में चीरा लगाता है। जिस पर गोंद जैसा पदार्थ निकलने लगता है। इसके बाद यह काम सूरज निकलने से पहले भी संभव है। जब तक फल में गोंद जैसा तरल पदार्थ पूरी तरह से बंद नहीं हो जाता। तब तक किसान समय-समय पर चीरे लगाने का सिलसिला भी जारी रखता है। इसे इकट्ठा करने के बाद सीधे सरकार को बेचा जाता है। इसके साथ ही किसान इसके अंदर से प्राप्त बीजों को भी बहुत सावधानी से रखते हैं। और यह सारी प्रक्रिया नारकोटिक्स विभाग की देखरेख में की जाती है।

ये भी देखें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular