HomeFashionDM Full Form क्या है | जानिये DM बनने की पूरी प्रक्रिया...

DM Full Form क्या है | जानिये DM बनने की पूरी प्रक्रिया | District Magistrate कैसे बनें.

DM Full Form क्या होता है 

दोस्तों District Magistrate जिनको हम सब लोग DM Full Form के नाम से भी जानते हैं। एक भारतीय प्रशासन सेवा यानी कि Indian Administrative Service (IAS) officer भी कहते है, जो भारत में एक ही distt जिसे हिंदी में जिला कहते हैं के सामान्य प्रशासन के रूप में सबसे ऊँचा अधिकारी  Dm के रुप मे नियुक्ति किया जाता हैं । हालांकि DM जिले के जिले के में कोई परेशानी होती है तो DM को ही राहत कार्य और बचाव के लिये जाना पड़ता है। इसलिए दोस्तों DM को जिला कलेक्टर के नाम से भी जाना जाया करता है, और साथ में ही संभागीय आयुक्त की देखभाल में ऊँचे अधिकारी का काम करता है, और DM को (IAS)के नाम से भी जाना जाता है। DM FULL Form जिला DM या Collector जिले के सभी मुख्य काम भी करता हैं। वह ज़िले के शाशन को सही ढंग से से चलाने की पूरी कोशिश करते है।

ezgif.com gif maker 1
DM full form

DM Full Form क्या होता है 

दोस्तों DM का पूरा फुल फॉर्म “District Magistrate” होता हैं जिसे हम देसी भाषा में DM कहते हैं। डिस्टिक मजिस्ट्रेट को हम हिंदी बोली में “जिला मजिस्ट्रेट” के रूप से जाना जाता हैं। डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट मतलब डीएम को भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) का एक बड़ा अधिकारी भी माना जाता है. ये भारत के किसी भी एक जिले के नॉर्मल प्रशासन के सबसे बड़े कार्यकारी अधिकारी मजिस्ट्रेट का मुख्य होता है।

DM – District Magistrate कौन होता है

दोस्तों DM full Form District Magistrate सारे distt का प्रमुख ऑफिसर और राजस्व अधिकारी भी माना जाता है जिसको पुरे जिला के सभी काम काज का अधिकार प्राप्त होता है तथा सभी कर्मचारियों का भी बड़ा अधिकारी DM ही होता है. और DM पुरे जिला को सेवा प्रदान करने के लिए नियुक्त किया जाता है और सुरक्षा व्यवस्था की भी जिम्मेदारी रखता है जिसको जिला का मुखिया भी कहते है।

DM – बनने के लिए पात्रता 

DM Full Form यानी DISTRICT MAGISTRATE बनने के लिए किसी भी उम्मीदवार को किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज से ग्रेजुएशन पूरा करना  बहुत ही जरूरी है, Graduation complete होने के तुरंत बाद ही आप DM की तैयारी शुरू कर सकते है।

DM के काम और अधिकार 

  1. दोस्तों DM मुख्य रूप से कानून व्यवस्था सुचारू रूप से बनाए रखने के लिए कार्य करता हैं।
  2. और सभी कामों के संभागीय आयुक्त को जानकारी भी प्रदान करना DM Full Form का कार्य होता है।
  3. दोस्तों जब संभागीय आयुक्त छुट्टी पर होते हैं, तो वो जिला विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष के रूप से कार्यकाल चलाने के लिए जिम्मेदार माना जाता हैं।
  4. जिले के सभी कार्य करने वाले मजिस्ट्रेटों की देखभाल और निगरानी भी DM ही करते हैं।
  5. District Magistrate ही सरकार को सालाना अपराध की रिपोर्ट प्रदान कराता है।
  6. DM जिले में स्थित पुलिस और जेलों का निरीक्षण भी करता है।

DM बनने के लिये कौनसी पढ़ाई करें 

दोस्तों DM Full Form बनना हर पढ़ने वाले बच्चे का सपना भी होता है. जो छात्र सिविल परीक्षा की preparation यानी तैयारी करते हैं उनके mind में कभी ना कभी ये जरूर आया होगा कि काश मैं भी DM पद हासिल कर सकूँ. 

लेकिन, डीएम बनने के लिए क्या करना पड़ता है?

दोस्तों जिला मजिस्ट्रेट यानी कि DM बनने के लिए, आपको सभी छात्रों को संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की परीक्षा पास करनी पड़ती है. और आपको Top 100 में एक rank को हासिल करना होता है। दोस्तों इस exam को पास करने कुछ समय के बाद आप भारत के प्रशासनिक सेवा अधिकारी (IAS) बन सकते हैं। IAS officer , एक या दो promotion के बाद ही आप एक distt के DM भी बन सकते हैं। लेकिन दोस्तों जिले का चयन करना आपके लिए असंभव है

DM के लिए age limit – Dm full form 

साथियों DM पद के लिए age की शर्त अलग-अलग समूह के मुताबिक अलग-अलग कैटेगरी में रखा जाता है । अगर आप जनरल कैटेगरी में हैं तो दोस्तों आपकी age 21 से 32 साल की होनी ही चाहिए।OBC वर्ग के लिए 21 साल से 35 साल की होनी चाहिए, क्योंकि आप ओबीसी केटेगरी से हैं तो आपको 3 वर्ष की छूट भी मिलती है।दोस्तों अगर हम बात करें sc/st समुह वालों की तो उनको लोगों को OBC समूह वालों के सामने 2 वर्ष अधिक छूट भी मिलती है यानी SC/ST के पास 5 वर्ष की छूट होती है तो DM बनने के लिए age limit 21 साल से 35 साल तक की ही होती है। 

ऐसे बनें DM 

दोस्तों अगर आप लोगों का सपना भी DM बनने का ही है तो आप लोगों को पहले Graduation होना जरूरी है. फिर इस के बाद आप संघ लोक सेवा आयोग ( UPSC) द्वारा होने वाली Civil Services Examination की परीक्षा को उत्तीर्ण करना जरूरी होगा। जिसमें दोस्तों आप के Rank के मुताबिक आप को IAS के लिए चुना जाएगा। आप को ये भी बता देते हैं की इस Exam में टोटल तीन चरण भी होते हैं।


Preliminary Exam (प्रारम्भिक परीक्षा) – दोस्तों इस Exam में आप लोगों के 2 exam यानी 2 पेपर होंगे। दोनों ही टिक ऑप्शन यानी वस्तुनिष्ठ टाइप के होंगे। दोस्तों ये दोनों ही पेपर आप लोगों को पास करने ही होंगे। दोस्तों आप सभी को जानकारी के लिए बता भी दें की इन पेपर के नंबर आप के mains exam या आप के फाइनल ranking में बिल्कुल नहीं जोड़े जाएंगे। सरल words में समझा जाए तो आप ये पेपर पास करने के बाद mains exam को दे सकते हैं. 


मेन्स परीक्षा (Mains Exam) – अब दोस्तों प्री exam पास करने पर आप लोगों को मेन्स की पेपर देनी होगी। जो टोटल 7 पेपर यानी exam होते हैं। इनमे एक essay का होता है , 4 exam paper आपके general studies के विषय पर और बचे हुए 2 पेपर आप के ऑप्शनल विषय ही होंगे। दोस्तों आप जानकारी होना चाहिए की ये exam paper आप के Final Ranking में जोड़े जाएंगे।


Personality Test & Interview : दोस्तों आप नाम पढ़ने से ही जरूर समझ गए होंगे की इनमे आप का इंटरव्यू होगा। जिसमें आपकी पर्सनालिटी को चेक किया जाएगा। और साथ ही इसमे प्रदर्शन के मुताबिक पर नंबर दिए जाते हैं। इंटरव्यू के नंबर आपके Final Ranking में जोड़े जाते हैं.

DM के अनेकों full form 

  • Director of Management 
  • Diamond Mine
  • Discrete Mathematics
  • Disease Management
  • Digital Media
  • Dual Mode
  • Dust Mites
  • Development Manager
  • District magistrate
  • Direct Mail
  • Diabetes Mellitus
  • Doctor of Management
  • Decision Maker
  • Direct Marketing
  • Direct Message
  • Drink Maker
  • Document Manager
  • Direct Modulation
  • Device Manager
  • Domicile Republic
  • Display Message
  • Digital Marketing
  • Direct Meeting
  • Decimeter
  • Decameter
  • Dual Master
  • Direct Modulation
  • Domain Manager
  • Diabetes Mellitus
  • Device Manager
  • Decision Memorandum

FAQ’s

DM बनने के लिए दी जाने वाली परीक्षा का क्या प्रारूप है ?

दोस्तों ये Exam 3 part में होता है। पहले आप सभी को prilims exam देना होता है। इस में pass होने के बाद ही आप Mains Exam देंगे जिसमें 7 पेपर भी होते हैं। और इसके बाद आप इंटरव्यू दे सकते।

DM का पावर कितना होता है?

दोस्तों DM Full Form किसी भी District का सबसे बड़ा कार्यकारी मजिस्‍ट्रेट अधिकारी होता है और उसकी जिम्मेवारी ज़‍िले में प्रशासन‍िक व्‍यवस्था को सुचारू रूप से बनाए रखने की ही होती है। 

DM होता क्या है और DM का काम? 

DM जिसके ऊपर सारे जिले की जिम्मेवारी होती है। जैसे सुरक्षा व्यवस्था , कानून व्यवस्था और बहुत सी सभी जरूरत की व्यवस्था की जिम्मेदारी DM के पास ही होती है।

DM को हिन्दी में क्या कहा जाता है?

DM को हिंदी भाषा में जिला मजिस्ट्रेट कहा जाता हैं।

DM Full Form – क्या है? 

DISTRICT MAGISTRATE, DM का FULL FORM होता है।

DM कैसे बनें ?

दोस्तों इसके लिए आप लोगों को संघ लोक सेवा आयोग के द्वारा होने वाली सिविल सेवा परीक्षा (UPSC CSE) भी देनी होगी।

DM बनने की पात्रता?

दोस्तों DM बनने के लिए candidate की उम्र सीमा कम से कम 21 साल होनी ही चाहिए। candidate graduation पास होना ही चाहिए। और साथ ही ये शर्त की candidate भारतीय नागरिक जरूर होना चाहिए।

निष्कर्ष 

तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने आपको DM full form के बारे में अद्भुत जानकारी बतायी है अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया है तो शेयर जरूर करना और एक comment भी धन्यबाद. 

ये भी पढ़ें :-

Stock Exchange क्या है.

Bikini line area क्या होता है.

Biotechnology क्या होती है.

Sunny Leone biography in hindi.

3D printer की पूरी जानकारी क्या होता है 3d printer.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular