HomeTechnologyBiotechnology in hindi - क्या है | बायोटेक्नोलॉजी में करिअर और भविष्य...

Biotechnology in hindi – क्या है | बायोटेक्नोलॉजी में करिअर और भविष्य की जानकारी.

Biotechnology क्या है? 

Biotechnology in hindi किसे कहते है? बायोटेक्नोलॉजी किस तरह से कार्य करती है? इस तरह के बहुत सारे प्रश्न हमारे आपके दिमाग में चलते ही होंगे। दोस्तों अक्सर आप सब ने देखा होगा की बिना गर्मी के समय में आप लोगों को बाजार में आम देखने को नहीं मिलेंगे, बिना सर्दी के मौसम में आप सब को केले देखने बिल्कुल नहीं मिलेंगे और ऐसी ही बहुत सी सब्जिया और फ्रूट है जो कुछ वर्षो पहले हम सिर्फ एक मौसम में ही खा पते थे लेकिन आज हम इस प्रकार के फल और सब्जी को वार्ष में कभी भी खा और लगा सकते है.

biotechnology
Biotechnology

दोस्तों ऐसे ही बर्षों पहले किसी पशु जानवर को बढ़ने में कई वार्ष का वक़्त लगता था लेकिन अगर मार्केट में या किसी Animal Framing House में आप देखेंगे तो अपने समय से पहले ही पशु बड़ा हो जाया कर्ता है यह सारी चीज़े कैसे होती है। आखिर ऐसा है क्या जिस टेक्नोलॉजी के कारण हमें विज्ञान, जिव विज्ञान और औद्योगीकरण में हमें बदल देखने मिल रहा है, जो एक ही टेक्नोलॉजी के यह बदलाव देखने को मिल रहे है। 

दोस्तों तो इस टेक्नोलॉजी को हम Biotechnology कहते है, जिसे हिंदी भाषा में जैव प्रौद्योगिकी भी कहा जाता है। इस टेक्नोलॉजी को लोग जीव विज्ञान की सबसे नयी टेक्नोलॉजी कहते है, मगर दोस्तों बात करे Biotechnology in hindi के इतिहास की तो इस टेक्नोलॉजी का प्रयोग लोग हज़ारो वर्षो से करते आ रहे है।

1. Biotechnology बायोटेक्नोलॉजी की खोज 

दोस्तों साल 1973 में Stanley N. Cohen एवं Herbert W. Boyer ने साथ मिलकर Recombinant DNA (rDNA) की खोज की थी । जिसके बाद biotechnology इंडस्ट्री का विकास बहुत तेजी से शुरू हुआ। दोस्तों बायोटेक्नोलॉजी शब्द का इस्तेमाल 1919 में सबसे पहले हंगरी के एग्रीकल्चर इंजीनियर कार्ल एरेकी ने किया. 

और दोस्तों आपको जानकर ये हैरानी होगी कि भारत देश में Biotechnology in hindi को इजाद यानी शुरू करने वाली एक स्त्री है जिसका नाम किरण मजूमदार शॉ था । जो दुनिया के प्रसिद्ध biotechnology कंपनी Biocon Limited की founder भी है। Biotechnology की बहुत सारी शाखा भी होती है जो कई क्षेत्र से संबंधित है।

2. बायोटेक्नोलॉजी के मुख्य प्रकार |important Types of Biotechnology

बायोटेक्नोलॉजी को मुख्य रूप से 4 भागों में बांटा जाता हैं। जो इस प्रकार से हैं-

● Marine Biotechnology – जलीय Biotechnology in hindi को Aquatic या marine Biotechnology भी कहा जाता है। यह biotechnology की वह शाखा है जिसके अंदर जलीय जीवों और Technology का उपयोग करके मानव कल्याण हेतु जरूरत की वास्तु बनाये जाते हैं। इसे blue biotechnology भी कहा जाता है।

उदाहरण– शैवाल (Algae) का उपयोग करके ईंधन (Biofuel) का बनाना।

● Agricultural Biotechnology – दोस्तों कृषि बायोटेक्नोलॉजी की वह शाखा है जिसमे बायोटेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कृषि के क्षेत्रों मे किया जाता है। इसके अन्दर बहुत अच्छी पैदावार वाली फसलों को भी तैयार किया जाता है। इसे green biotechnology के नाम से भी जानते है।

उदाहरण– अच्छी प्रतिरोधक क्षमता वाली फसलों को तैयार करना, Biopesticides, Biofertilizers इत्यादि।

● Medical Biotechnology– दोस्तों मेडिकल Biotechnology in hindi को Red biotechnology कहा जाता है। यह बायोटेक्नोलॉजी की उस शाखा का नाम है जिसका इस्तेमाल मेडिकल क्षेत्र में ही होता है। इसके प्रयोग से मानव स्वास्थ्य और मनुष्य जीवन में अधिक से अधिक सुधार का प्रयास भी किया जाता है।

उदाहरण– एंटीबायोटिक्स, वैक्सीन बनाना, ड्रग्स थेरेपी इत्यादि red biotechnology के अंदर आते हैं।

● Industrial Biotechnology– औद्योगिक बायोटेक्नोलॉजी को white biotechnology भी कहा जाता है। इसका मतलब Industrial area में बायोटेक्नोलॉजी का उपयोग करने से ही है।

उदाहरण– कपड़ा, बायोईंधन, प्लास्टिक इत्यादि ।

3. Under Graduate Course ( स्नातक कोर्स) 

यदि दोस्तों आप intermediate यानी 12th के बाद Biotechnology in hindi कोर्स करने के इच्छुक है, तो आप लोग B.Sc Biotechnology कोर्स भी कर सकते है जिसकी समय सीमा 3 साल की होती है। वहीँ B.Tech Biotechnology कोर्स की समय सीमा 4 वर्ष की होती है। और इस कोर्स को करने के लिए आपका 12th साइंस स्ट्रीम मतलब (Physics, Chemistry, Maths, Biology) से होना बहुत जरूरी है। और इस कोर्स में दाखिला लेने के लिए आपको admission Exam भी पास करना होगा लेकिन कई सारे कॉलेज ऐसे भी मौजूद है जो आपको इस course में सीधा प्रवेश दे देते है। 

4. Post Graduate Course ( परास्नातक कोर्स) 

दोस्तों अगर बात करे post graduate course कि तो Biotechnology in hindi में अपना Graduate program पूरा करने के बाद आप अगर चाहे तो पोस्ट ग्रेजुएट course M.Sc Biotechnology या M.Tech Biotechnology में दाखिला ले सकते है। इस कोर्स को करने के बाद आप biotechnology में अपनी अच्छी पकड़ बना भी लेंगे और इस field से जुड़े बेह्तरीन career opportunity को भी हासिल कर सकेंगे । इस कोर्स की समय सीमा 2 साल की ही होती है। 

Biotechnology में M.Sc करने के लिए आप लोगों को भी JAM, और M.Tech करने के लिए GATE  प्रवेश परीक्षा को पास करना अनिवार्य होगा। 

5. Doctorat Program ( डॉक्टर बायोटेक्नोलॉजी) 

दोस्तों Biotechnology in hindi में post graduate पूरा करने के ठीक बाद अगर आप लोग Doctoral ( डॉक्टर की उपाधि) की डिग्री भी लेना चाहते हो तो आपको PhD course करने के लिए आवेदन करना होगा। और इस कोर्स की समय सीमा 3 से 4 वर्ष की होती जो research work के ऊपर भी निर्भर करता है। दोस्तों biotechnology में ग्रेजुएशन और post graduation course करने के दौरान आप लोग चाहे तो  इम्यूनोलॉजी, जेनेटिक्स, फार्माकोलॉजी, युरोलॉजी, Biostatistics (जैव सांख्यिकी), एनिमल हस्बेंड्री और मॉलिक्यूलर बायोलॉजी में किसी एक में Specialization महारत भी हासिल कर सकते है। 

6. Biotechnology in hindi बायोटेक्नोलॉजी में करियर कैसे बनाया जाये

दोस्तों ऐसे युवा लड़के लड़किया जो biology से मेडिकल साइंस को बतौर करियर बनाना चाहते हैं उनके लिए यह field बहुत आकर्षक और सफलता की ऊंचाईयों को छूने में मददगार सिद्ध हो सकता है एमबीबीएस की लिमिटेड सीटों और दिन प्रतिदिन महँगी होती पढ़ाई के समय में युवा Biotechnology in hindi की राह को आसानी से पाया जा सकता है और करियर को बायोसाइंस के क्षेत्र में ही निखार सकते हैं

दोस्तों प्रमुख विषयों की तरह, इसकी शुरुआत भी 12th के बाद से ही होती है. Biotechnology मुख्य कोर्सेज में B.Sc Biotechnology, B.Tech Biotechnology, B.Sc Genetics, B.E Biotechnology,  B.Sc Microbiology आदि का नाम आता है. बाद में दोस्तों masters degree स्तर पर biotechnology के course में प्रवेश लिया जा सकता है जैसा कि दोस्तों पहले भी बटाया गया है कि यह रिसर्च पर आधारित विषय है तो उच्च शिक्षा के लिए foreign universities को भी देखा जा सकता है और इसके बाद नौकरी पाना बिल्कुल मुश्किल नहीं होता है. 

दोस्तों आने वाले समय में रोजगार के अवसर इस क्षेत्र में बहुत ज्यादा बढ़ने की संभावनाएँ भी है इस कारण व्यक्त भी की जा रही है क्योंकि बहुत से पश्चिमी देशों की मेडिकल कंपनियों को अपने ही देश के सख्त कानूनों के कारण नई विकसित दवाओं के research ट्रायल में न सिर्फ time और पैसा बल्कि और परेशानियों का भी सामना भी करना पड़ता है

दोस्तों जबकि यही कार्य भारत जैसे देशों में काम करने वाली कंपनियों में कांट्रेक्ट आधार पर सुगमता से करवाया जाता है. तो ऐसे लड़के जो किसी कारणों से एमबीबीएस बनने का सपना पूरा नहीं कर सकते हैं और किसी कारण अन्य विषयों की पढ़ाई करने की सोचते हैं उनके लिए बायोटेक्नोलॉजी का क्षेत्र आशा की किरण लेकर आया है.

निष्कर्ष 

तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने आपको Biotechnology in hindi के बारे में बहुत ही अद्भुत जानकारी बताई है अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया है तो शेयर जरूर करना और एक comment भी धन्यबाद 

ये भी पढ़ें :-

Sunny Leone biography in hindi

Moviespapa वेबसाइट क्या है

3d pprinter क्या है

होली का इतिहास क्या है

Jio phone se paise kaise kamaayein.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular