HomeShare MarketStock Exchange क्या है | Stock Market कैसे काम करता है |...

Stock Exchange क्या है | Stock Market कैसे काम करता है | कैसे निवेश करें.

Stock Exchange क्या है 

दोस्तों प्रतिभूति मार्केट Stock Exchange दो तरीके के ही होते हैं – प्राथमिक बाज़ार एवं द्वितीयक बाज़ार। प्रतिभूतियां प्राथमिक मार्केट में पहली बार ही आती है और फिर उसके ठीक बाद द्वितीयक बाज़ार में बेंचने और खरीदने के लिए हमेशा मौजूद रहती है। इसी द्वितीयक मार्केट को स्टॉक मार्केट या stock exchange कहा जाता है.

stock exchange
Stock exchange

इस आर्टिकल में हम स्टॉक एक्स्चेंज (Stock Market) पर बहुत ही सरल चर्चा करेंगे और इसके बहुत ही महत्वपूर्ण पहलुओं को समझायेंगे.

स्टॉक एक्सचेंज क्या होता है What is stock exchange?

दोस्तों भारत में स्टॉक एक्सचेंज stock exchange एक merket के तौर पर काम करता है और इस मार्केट में स्टॉक, बांड और कमोडिटी आदि वित्तीय  साधनों का व्यापार किया जाता है। यह एक ऐसी जगह है जहाँ sebi के Rules का पालन करते हुए seller और buyer वित्तीय साधनों का कारोबार करते हैं। Stock exchange में केवल वही कम्पनियाँ कारोबार कर सकती हैं, जो इसकी सूची में शामिल हों।

अगर ऐसे शेयर जो किसी अच्छे और बड़े Stock Exchange में शामिल न हों, उन शेयर का भी ‘ओवर द काउंटर मार्किट’ में व्यापार किया जा सकता है। लेकिन इस प्रकार के शेयरों के exchange में उतनी महत्वता नहीं मिलती.

भारत में स्टॉक एक्सचेंज का इतिहास – Stock Exchange History 

दोस्तों दुनिया का सबसे पुराना stock market सन 1602 में Dutch East India Company के द्वारा Netherland में बनाया गया था जिसे आज Euronext Amsterdam Stock Exchange के नाम से बुलाया जाता है। 

दोस्तों पुराने समय में stock exchange में लेन देन सर्टिफिकेट के प्रकार में ही होता था लेकिन दोस्तों वर्तमान समय में internet के प्रयोग से इलेट्रॉनिक तरीके से स्टॉक को ख़रीदा एवं बेचा जाता है. 

Stock Exchange स्टॉक मार्केट In India

दोस्तों वैसे तो भारत में Stock market की शुरुआत 1875 में हो गई थी , लेकिन दोस्तों आज के समय में हमारे भारत देश में केवल 2 ही Main Stock exchange है.

• BSE (Bombey stock exchange)

• NSE (National stock exchange)

Bombey Stock Exchange – BSE

दोस्तों BSE भारत का दूसरा सबसे बड़ा Stock exchange है, एवं इसका index सेंसेक्स है. वर्ष 9 July 1875 में BSE का उद्घाटन प्रेमचंद रॉय के द्वारा किया गया था. तथा वे उस समय big bull के नाम से भी जाने जाते थे. BSE की गिनती इंडिया के सबसे old वाले Stock market नहीं एशिया के बहुत पुराने वाले stock exchange में करी जाती है. दोस्तों अगर आपको लोगों को BSE के बारे में और भी जनना है तो आप website पर visit करे,https://www.bseindia.com

NSE-National stock exchange

इंडिया का सबसे बड़ा Stock Exchnage NSE है, और उसका index Nifty है. साल 1992 में NSE की शुरुआत हो गई, और ये इकलौता ऐसा stock exchnage है इंडिया में जिस ने टाइम के हिसाब से अपने आप में बदलाव किए. उन मै से एक है इलेक्ट्रोनिक तरीके से shares को buy ओर sale करना. ये भारत का पूरी तरह से पहला Fully computerized stock exchange . अगर आपको NSE के बारे में और जनना है तो उनके website के उपर जरूर visit कर सकते हैं. https://www.nseindia.com

NSE कैसे बना भारत का सबसे बड़ा Stock market?

तो इसका जवाब बहुत आसान है, आज के समय में shares का volume BSE से अधिक NSE पर ही होती है मतलब shares की जो buying और selling है वो BSE से अधिक NSE पर होती है, इसलिए दोस्तों NSE एक बड़ा stock exchnage है भारत में.

स्टॉक एक्स्चेंज Stock exchange के घटक

ब्रोकर या दलाल – दोस्तों ये एक बिचौलिए का कार्य करता है जो कि stock exchange का एक registered सदस्य होता है। ये अपने कस्टमर की तरफ से शेयर की खरीद और बिक्री किया कर्ता है और कुल खरीद और बिक्री पर अपना कमीशन ले लेता है। इसीलिए दोस्तों इसे कमीशन ब्रोकर भी कहते है। जैसे कि – एंजेल ब्रोकर, जीरोधा इत्यादि.

जॉब्बर या आढ़ती – दोस्तों एक जॉब्बर ब्रोकर का भी ब्रोकर हुआ कराता है। जिस तरह दोस्तों एक साधारण निवेशक ब्रोकर के संपर्क में हमेशा रहता है उसी तरह से एक ब्रोकर जॉब्बर के टच में भी रहता है। दूसरी भाषा में कहें तो जॉब्बर का साधारण कस्टमर से कोई भी संपर्क नहीं कर्ता है।

दोस्तों ये stock exchange में ही ट्रेडिंग पोस्ट पर नियुक्त होता है और दोस्तों वहीं से कम पैसे अंतरों पर shares की खरीद और बिक्री का कार्य भी करता हैं। Bombey stock exchange में इसे तारवानी वाला भी कहा जाता है। दोस्तों लंदन stock exchange में इसे बाजार मेकर भी कहा जाता है। bombey stock में अगर किसी कंपनी की 3. 2 करोड़ से ऊपर की शेयर राशि है तो वह जॉब्बर को appoint कर सकता है।

स्टॉक एक्सचेंज कैसे कार्य करता है – Stock Exchange 

दोस्तों जब भी कोई Buyer या Seller ट्रेड लेता है तो ये ट्रेड सीधा ब्रोकर से होता हुआ stock exchange के सर्वर तक चाला जाता है स्टॉक एक्सचेंज एक treding system का इस्तेमाल करता है जो ऑर्डर पर कार्य करने वाला Automatic matching system है इस सिस्टम में जो भी आदमी या फिर कंपनी ट्रेड ले रहा है उसकी पहचान जाहिर नहीं की जाती है। 

किसी भी समय stock market में एक share को खरीदने या फिर बेचने के लिए बहुत सारे लोग इकठ्ठा होते है ऐसे में जिस भी person ने पहले आर्डर लगाया है उसका आर्डर सबसे पहले ख़रीदा या फिर बेच दिया जायेगा लेकिन दोस्तों अगर कोई invester पहले आर्डर की तुलना में कम पैसे डालता है तो उसके आर्डर को सबसे पहली Priority भी दी जाएगी. 

दोस्तों जब भी कोई invester कोई भी शेयर खरीदने या फिर बेचने का इच्छुक होता है और अपने आर्डर को प्लेस कर देता है तो फिर stock exchange का treding system अपने आप से ही खरीदने वाले और बेचने वाले को मिलाकर स्टॉक ऑर्डर को पूरा कर देता है. 

मार्किट में शेयर की कीमत उपर जाएगी या फिर नीचे ये चीज इस पर निर्भर है की बाजार में seller अधिक है या फिर buyer ज्यादा है अगर दोस्तों buyer अधिक है तो share market ऊपर ही जायेगा और अगर seller ज्यादा है तो मार्केट गिरेगा। 

Stock exchange में कोई share buy करने पर फौरन डीमैट अकाउंट में बिल्कुल नहीं आता है क्योंकि इंडियन market में टी+2 रोलिंग सेटलमेंट का प्रयोग होता है इसका मतलब है की आज ख़रीदा हुआ शेयर तीसरे दिन डीमैट अकाउंट में आ जायेगा।

शेयर share खरीदने का तरीका

Share market में शेयर buy करने के तरीके को एक उदहारण से समझ लेते है. ताकि आप लोग और भी अच्छे से समझ लें. Mr x🚹 को शेयर buy करना है बाजार से तो,सबसे पहले Mr x🚹 को broker से अपना Trading account और फिर Demat account खुलवाना होगा.

Stock broker क्या है

दोस्तों एक बार Mr X ने broker से अपना Trading account और Demat account खुलवा लिया, उसके ठीक बाद Mr X को अपने trading account में कुछ पैसे डालने पड़ेंगे उसके बाद किसी एक शेयर कंपनि को चुन करके उसका ऑर्डर order लगाना पड़ेगा. फिर वही ऑर्डर आपके ब्रोकर के पास चला जाता है,और फिर broker उस ऑर्डर को Stock market में दे देगा confirmation के लिए और फिर दोस्तों जब ऑर्डर confirm कर दिया जाता है,तो broker Mr x को बता देगा कि आप लोगों का ऑर्डर Confirm हो गया है.

और उसके बाद Mr x ने खरीदे हुए शेयर की detail, ब्रोकर depository को देता है. और depositary उसका E- Certificate बनाकर Mr x के Demat अकाउंट में जमा भी दिया कर्ता है.

निष्कर्ष 

तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने आपको stock exchange के बारे में सब कुछ detail से बताया है अगर आपको कुछ समझ नहीं आया या फिर आप stock exchange के बारे में और भी कुछ जानना चाहते हैं तो आप comment करके जरूर बताना और शेयर जरूर करना धन्यबाद.

ये भी पढ़ें :-

जियो फोन से पैसे कैसे कमाएं

Polar bear के बारे में अद्भुत जानकारी.

3d printer क्या होता है

Sunny Leone biography in hindi.

Biotechnology क्या है

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular