HomeBiographySteve Jobs biography | स्टीव जॉब्स सफलता की कहानियों का जीवन परिचय.

Steve Jobs biography | स्टीव जॉब्स सफलता की कहानियों का जीवन परिचय.

Steve Jobs Biography

20220207 160908
Steve jobs biography

दोस्तों एप्पल के फाउंडर Steve Jobs Biography स्टीव जॉब्स का जीवन हर किसी के लिए प्रेरणादायक हैं, उन्होंने जिस तरह अपने जीवन में तमाम संघर्षों को झेलकर अपनी जिंदगी में सफलता के नए आयामों को छुआ वो वाकई तारीफ-ए-काबिल हैं।

जॉब्स की जिंदगी में एक वक्त ऐसा भी था जब उन्हें एक मंदिर में मिलने वाले खाने से अपनी भूख मिटानी पड़ती थी और दोस्त के घर जमीन में सोना पड़ता था।

यहीं नहीं वे अपने जीवन में उस दौर से भी गुजरे जब उन्हें अपनी ही कंपनी एप्पल से निकाल दिया गया था, लेकिन इन सबके बाबजूद भी उन्होंने कभी हार नहीं मानी और आगे बढ़ते रहे। आइए जानते हैं स्टीव जॉब्स के प्रेरणादायक जीवन के बारे में.

नाम (Name) स्टीव जॉब्स (Steve Jobs)
पूरा नाम (Full name)स्टीव पॉल जॉब्स
जन्म (Birth)24 फरवरी 1955, सैन फ्रांसिस्को शहर, कैलिफोर्निया, अमेरिका
दत्तक माता (Adoptive mother)क्लारा जॉब्स (Clara Jobs)
दत्तक पिता (Adoptive father)पोल जॉब्स (Paul Jobs)
जैविक माता (Biological mother)जोआन शिबल (Joanne Schieble)
जैविक पिता (Biological father)अब्दुलफतह जंदाली (Abdulfattah Jandali)
बहिन (Sister)मोना सिंपसन
पत्नी (Wife)लोरेन पॉवेल (1991 में शादी)
साथी (Partner)क्रिशन्न ब्रेनन
पुत्र (Son)रीड जॉब्स
पुत्री (Daughter)लिसा ब्रेनन्न जॉब्स, एरिन जॉब्स, इव जॉब्स
धर्म (Religion)ईसाई
सह-संस्थापक (Co-founder)एप्पल कंपनी
प्रसिद्धि का कारण (Reason of Fame)आविष्कारक, उद्यमी, एप्पल कंपनी के सह-संस्थापक तथा सीईओ, नेक्स्ट कंपनी के संस्थापक
मृत्यु (Death)5 अक्टूबर 2011, पलो अल्टो, केलिफोर्निया, अमेरिका
उम्र (Age)56 वर्ष

स्टीव जॉब्स कौन है. Steve Jobs Biography

स्टीव जॉब्स का जन्म 24 फरवरी 1955 को हुआ और उनकी मृत्यु 5 अक्टूबर 2011 को हुई।  स्टीव जॉब्स एक अमेरिकन बिजनेसमैन, बहुत बड़े इन्वेंटर थे। उन्होंने आईफोन, आईपैड और मैकबुक जैसे रिवॉल्यूशनरी प्रोडक्ट्स बनाएं ।

स्टीव जॉब्स के शुरुआती जिंदगी कैसी रही Steve Jobs Biography

स्टीव जॉब का जन्म सन फ्रांसिस्को में हुआ, उनके माता-पिता Joanne Schieble और john jandali यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स थे और इन दोनों की उस टाइम शादी नहीं हुई थी इसलिए स्टीव जॉब्स को एडॉप्शन के लिए दे दिया गया।

फिर Steve Jobs Biography स्टीव को पॉल और क्लारा जॉब्स ने अडॉप्ट कर लिया, पॉल जॉब्स , स्टीव जॉब्स को हमेशा इंस्पायर करते थे और अपने गैराज में इलेक्ट्रॉनिक्स के साथ उनको एक्सपेरिमेंट करने के लिए कहते थे उन्हीं के वजह से स्टीव जॉब्स में इलेक्ट्रॉनिक्स के प्रति रुझान आया।

उन्होंने स्कूल और कॉलेज अटेंड तो किया लेकिन स्कूल की पढ़ाई में उन्हें कभी मन नहीं लगा और उनकी टीचर और उनमें कभी भी बनी नहीं।

स्टीव जॉब्स का बचपन व शिक्षा

Steve Jobs Biography – का बचपन और शिक्षा 

Steve Jobs Biography का जन्म 24 फरवरी 1955 को सन फ्रांसिस्को, कैलिफोर्निया में हुआ था। जब उनका जन्म हुआ। तो उनके माता-पिता ने उन्हें Adoption के लिए दे दिया। ऐसा इसलिए, क्योंकि उनके माता-पिता unmarried couple थे। उनके पिता एक Refugee थे। जिनका नाम अब्दुल फतह जंदाली था। उनकी माता जो कि एक अमेरिकन सिटीजन थी। उनका नाम जोओनी सिम्पसन था। Steve Jobs की माँ के पिताजी ने, अपनी बेटी की शादी एक refugee से करने से मना कर दिया। उन्होंने कहा कि यह संभव नहीं है।

तब Steve Jobs के माता-पिता ने यह निर्णय लिया। वह इस बच्चे को Adoption के लिए दे देंगे। जब बच्चा adopt हो जाएगा। तब वह दोनों अलग अलग हो जाएंगे। लेकिन उनकी एक शर्त थी। वह चाहते थे कि Steve jobs को, जो भी adopt करें। वह ग्रेजुएट हो। वह चाहतें थे कि उनका बच्चा भी आगे चलकर ग्रेजुएशन करें। इसके बाद उन्हें काफी सर्च किया। उन्हें एक ऐसा couple मिल भी गया। लेकिन बाद में पता चला। उस couple ने, उनसे झूठ बोला था। वह ग्रेजुएट नहीं थे। लेकिन उन्होंने स्टीव जॉब के biological parents को, यह promise किया। वह उसकी graduation पूरी करवाएंगे।

क्लारा और पाउल ने इस बच्चे को adopt कर लिया था। उन्होंने उनका नाम Steve Poul Jobs रखा। जिन्हें आज हम सभी स्टीव जॉब के नाम से जानते हैं। क्लारा एक accountant थी। पाउल एक Coast Guard मकैनिक थे। स्टीव जॉब ने अपना बचपन Mountain View, California में बिताया। जिस जगह को, आज हम Silicon valley के नाम से जानते हैं। Silicon valley एक ऐसी जगह है। जहां पर आज दुनिया की बड़ी-बड़ी कंपनियों का जन्म हुआ। जैसे कि फेसबुक, गूगल, अमेजॉन, एप्पल और बहुत सारी। बचपन में स्टीव जॉब और उनके पिता, अपने पुश्तैनी गेराज में electronic items को खोलते और उन्हें assemble करते थे।Steve Jobs Biography

 उनके पिता उन्हें सिखाते थे। कैसे equipment को use करके। किसी भी electronic items को खोला और वापस उसे बंद किया जाता है। धीरे-धीरे ये स्टीव जॉब्स की hobby बन गई। उनके अंदर Confidence आने लगा कि वह इस काम को कर सकते हैं। उनका technology में interest भी, यहीं से start हो गया। अन्य बच्चों के comparison में स्टीव जॉब बचपन मे बहुत intelligent और innovative थे। उनका यह सोचना था कि स्कूल का पढ़ाने का formal तरीका बहुत ही boring और frustrating है। इसकी वजह से बच्चों की creative side कभी बाहर ही नहीं आ पाती।

जब वह elementary school में थे। तब वह बच्चों से बहुत prank किया करते थे। 4th grade में teachers उन्हें bribe देती थी। ताकि वह अच्छे से पढ़ाई में ध्यान लगा सकें। लेकिन जब उनके test का result आया। तब सारे टीचर ने यह suggest किया। यह बच्चा बहुत intelligent है। इसको skip करके, सीधा High School में डाल दो। लेकिन उनके parents ने ऐसा करने से मना कर दिया। क्योंकि वह चाहते थे कि स्टीव अच्छे से पढ़कर आगे बढ़े।

उसके बाद, स्टीव Steve Jobs Biography ने अपनी हाईस्कूल की पढ़ाई पूरी की। Reed Collage, Portland में अपना admission ले लिया। लेकिन कॉलेज जाने के बाद, उन्हें सही guidance नहीं मिली। उन्होंने कालेज को drop कर दिया। कॉलेज drop करने के बाद, स्टीव जॉब्स ने पढ़ाई करना नहीं छोड़ा। उन्होंने 18 महीनों के लिए creative classes, join कर ली। यहां पर उन्होंने Typography (सुलेख) में अपना interest बना लिया।

स्टीव जॉब्स कॉलेज से ड्रॉप आउट (Steve Jobs Biography)

कॉलेज छोड़ने के बाद, स्टीव जॉब्स 1974 में लोस एल्टोस में वापस अपने घर आ गए और वहां काम की तलाश करने लग गए। उन्हें अटारी नामक कंपनी ने टेक्नीशियन की जॉब दी। इस जॉब से उन्होंने पैसे एकत्रित किए और भारत में यात्रा पर जाने की योजना बनाई। 

वह अपने दोस्त के Steve Jobs Biography साथ 1974 में आध्यात्मिक ज्ञान की प्राप्ति के लिए भारत आए। 7 महीने तक यहां पर रहने के बाद वापस अमेरिका चले गए। अटारी कंपनी में वापस आने पर उन्हें चिप के कार्य के लिए $100 देने को कहा गया। स्टीव Steve Jobs Biography को सर्किट के बारे में ज्यादा नॉलेज नहीं था तो उन्होंने अपने दोस्त वोजनियाक से कहा कि वह अगर उसकी मदद करेगा तो उसे 50% हिस्सा दे देंगे।

एप्पल कंपनी की स्थापना

मार्च 1976 में वोजनियाक ने एप्पल प्रथम कंप्यूटर का निर्माण किया और उसे स्टीव जॉब्स Steve Jobs Biography को दिखाया। उसी साल अप्रैल के महीने में स्टीव जॉब्स, वोजनियाक तथा रोनाल्ड वायने ने एप्पल कंपनी की स्थापना की।

कपनी की सारी प्रक्रियाएं स्टीव के बेड रूम के अंदर होती थी फिर बाद में गैरेज के अंदर ले जाया गया। रोनाल्ड वायने कंपनी में बहुत कम दिनों तक ही ठहरे और स्टीव व वोजनियाक को मुख्य रूप से कोफाउंडर व संचालक बने रहने दिया।

स्टीव जॉब्स को अपनी ही कंपनी से निकलना

 अब Steve Jobs Biography की मुसीबतें और ज्यादा बढ़ गई थी। उनकी खराब marketing strategy और गलत decisions की वजह से, board of directors और उनमें काफी ज्यादा clash होने लगे। यहां तक कि कंपनी के CEO John Sculley और board of directors ने यह तय किया। कि स्टीव जॉब्स को इस कंपनी से निकाल दें। उनका मानना था कि स्टीव जॉब की वजह से कंपनी पूरी तरह डूब जाएगी। John Sculley वही थे। जिन्हें स्टीव जॉब ने खुद appoint किया था। यह इसके पहले पेप्सी कंपनी के प्रेसिडेंट थे।

1985 में Steve Jobs ने अपने एप्पल के शेयर को बेचकर resign कर दिया। 10 साल बाद, Steve Jobs को उन्हीं की कंपनी से निकाल दिया गया। जिसको उन्होंने वोजनियाक के साथ, अपने पिता के गेराज में start किया था। यह स्टीव जॉब के लिए, किसी सदमे से कम नहीं था। वह इसके बाद डिप्रेशन में चले गए। उन्हें भरोसा नहीं हो रहा था कि जिन लोगों को उन्होंने job दी। जिन्हें board of directors में लाकर बैठाया। उन्होंने ही मिलकर, उन्हें उनकी ही कंपनी से निकाल दिया। एप्पल से resign करने के बाद, स्टीव जॉब ने अपना टाइम बिल्कुल भी बर्बाद नहीं किया। वह शुरू से चाहते थे कि वह इस दुनिया को ऐसे products बनाकर दें। जो लोगों को, उनके जीने के तरीके को बदल दे।

एप्पल में सीईओ के रुप में वापसी

इसके Steve Jobs Biography बाद एप्पल ने 1996 में नेक्स्ट कंपनी खरीदने के लिए स्टीव से बात की और यह डील 427 मिलियन डॉलर में फाइनल हुई। इस बार स्टीव जॉब्स ने सीईओ के रुप में एप्पल कंपनी में वापसी की, लेकिन इस दौरान एप्पल कठिन दौर से गुजर रही थी, इसके बाद स्टीव के मार्गदर्शन में कंपनी ने एप्पल IPOD म्यूजिक प्लेयर और ITunes लॉन्च किए।

इसके बाद 2007 में एप्पल ने अपना पहला मोबाइल फोन लॉन्च कर मोबाइल की दुनिया में क्रांति ला दी, वहीं इसके बाद एक के बाद एक नए-नए प्रोडक्टर लॉन्च कर एप्पल लगातार सफलता के नए पायदानों को छू रहा  है।

स्टीव जॉब्स की मृत्यु

अक्टूबर 2003 में स्टीव जॉब Steve Jobs Biography को कैंसर जैसी भयानक बीमारी होने का पता चला. उन्हें अपने अग्नाशय का कैंसर था. जुलाई 2004 में इस टीम की पहली सर्जरी हुई जिसमें उनके ट्यूमर को सफलतापूर्वक निकाल लिया गया. इस समय स्टीव जॉब्स मेडिकल लीव पर थे. इस दौरान उनकी जगह टीम कुक एप्पल कंपनी को संभाल रहे थे.

वर्ष 2009 तक इस टीम अपने खराब स्वास्थ्य के साथ भी काम करते रहे, 2009 में उनकी हालत और बिगड़ती चली गई और लीवर ट्रांसप्लांट की नौबत भी आ गई थी. इस वजह से उनका लिवर ट्रांसप्लांट करना पड़ा था. 17 जनवरी 2011 में स्टीव जॉब्स ने वापस एप्पल में आकर के काम शुरू किया. स्टीव जॉब्स का स्वास्थ्य अभी उन्हें इसकी इजाजत नहीं देता था लेकिन इस टीम को अपने काम से बहुत प्यार था और वह उसे अपने स्वास्थ्य से भी ऊपर रखते थे.

24 अगस्त वर्ष 2011 को स्टीव जॉब्स ने एप्पल के सीईओ पद से इस्तीफा देने की घोषणा कर दी थी. उन्होंने लिखित तौर पर अपना इस्तीफा एप्पल के बोर्ड ऑफ मेंबर्स को दे दिया. और इसके साथ ही उन्होंने अगले सीओ के लिए टीम कुक का नाम सामने रखा.

5 अक्टूबर वर्ष 2011 को कैलिफोर्निया के पालो अल्टो में स्टीव जॉब Steve Jobs Biography की मौत हो गई.

एप्पल के फाउंडर स्टीव जॉब्स के प्रेरणात्मक विचार Steve Jobs Biography

”तुम्हारा समय सीमित है, इसलिए इसे किसी और की जिंदगी जी कर बिल्कुल भी व्यर्थ मत करो।”

”शायद मौत ही इस जिंदगी का सबसे बड़ा अविष्कार है।”

”जो इतने पागल होते हैं, उन्हें लगता है कि वो दुनिया बदल सकते हैं, वे अक्सर बदल देते हैं।”

”डिजाइन सिर्फ यह नहीं है कि चीज कैसी दिखती या फिर महसूस होती है, बल्कि डिजाइन यह है कि वह चीज काम कैसे करती है।”

”कभी-कभी जिंदगी आपके सर पर ईंट से वार करेगी लेकिन अपना भरोसा कभी मत खोइए।”

निष्कर्ष

तो दोस्तों अगर आपको Steve jobs biography के बारे में अद्भुत जानकारी पसंद आयी है तो शेयर जरूर करना और कॉमेंट भी धन्यबाद

ये भी पढ़ें

Technology kya hai?

Albert Eintien Biography?

Nora Fatehi Biography?

William Shakespear Biography?

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular