8 वर्ष से कम आयु की ल़डकियों में आ रही प्यूबर्टी दिख रहे Sexual लक्षण स्मार्ट गैजेट्स चलाने से हार्मोनल प्रॉब्लम.

Puberty in girls : कोरोना काल में पूरी दुनिया में लोगों को कई तरह की शारीरिक और मानसिक बीमारियों का सामना करना पड़ा। इस दौरान नन्ही बच्चियों में अजीबोगरीब बदलाव देखने को मिला। इनमें से समय से पहले यौवन के मामले सामने आए। यह पैटर्न विशेष रूप से कई देशों में लॉकडाउन के दौरान देखा गया था। इस असामान्य घटना को इडियोपैथिक असामयिक यौवन कहा जाता है।

यौवन का ब्लू लाइट एक्सपोजर से कनेक्शन

युवावस्था में आने का मुख्य कारण लॉकडाउन के दौरान अपने स्मार्ट गैजेट्स के सामने अधिक समय बिताना है। इसे साबित करने के लिए तुर्की की गाजी यूनिवर्सिटी और अंकारा सिटी हॉस्पिटल के वैज्ञानिकों ने 18 मादा चूहों पर शोध किया। वे कम या ज्यादा समय के लिए विभिन्न प्रकार की एलईडी रोशनी के संपर्क में थे। शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन चूहों ने प्रकाश के सामने अधिक समय बिताया, वे दूसरों की तुलना में अधिक तेजी से परिपक्व हुए।

वैज्ञानिकों के अनुसार हमारे डिवाइस की स्क्रीन से निकलने वाली नीली रोशनी शरीर में मेलाटोनिन हार्मोन की मात्रा को कम कर सकती है। यह हार्मोन हमारे दिमाग में रिलीज होता है और नींद को नियंत्रित करता है। इसके साथ ही प्रजनन में इस्तेमाल होने वाले हार्मोन की मात्रा भी बढ़ सकती है, जिससे समय से पहले यौवन आ सकता है।

प्रारंभिक यौवन और कोरोना संक्रमण के बीच कोई संबंध नहीं है
लड़कियों में कोरोना की शुरुआत से ही आने वाले शारीरिक बदलाव का कारण वायरस का संक्रमण माना जा रहा था। इस विषय पर कई अध्ययन भी किए गए हैं। लेकिन, हाल ही में रोम में 60वीं यूरोपियन सोसाइटी फॉर पीडियाट्रिक एंडोक्रिनोलॉजी की बैठक में एक शोध प्रस्तुत किया गया। इसमें कहा गया है कि कोरोना संक्रमण का लड़कियों के जल्दी यौवन से कोई लेना-देना नहीं है।

यौवन की सामान्य आयु क्या है?

लड़कों में यौवन 9 से 14 वर्ष और लड़कियों में 8 से 13 वर्ष के बीच होता है। हालाँकि, यदि लड़कियों में 8 वर्ष की आयु से पहले माध्यमिक यौन लक्षण (जैसे स्तन का आकार बढ़ना, निजी अंगों में बालों का बढ़ना आदि) विकसित हो जाते हैं, तो इसे असामयिक यौवन कहा जाता है। ऐसे मामलों में अचानक हार्मोनल असंतुलन का कारण अभी भी अज्ञात है। इस पर अभी और शोध की जरूरत है।

ये भी देखें

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version