Sawan 2022 : सावन माह में ये काम करना है वर्जित, जानिये कब है पहला सोमवार.

Sawan 2022

Sawan 2022: दोस्तों शिव जी का प्रिय सावन हिंदू पंचांग के मुताबिक 14 जुलाई से शुरू होने जा रहा है और दोस्तों यह त्योहार जिसको सावन कहते हैं यह अगस्त माह तक रहने वाला है इस वर्ष दोस्तों सावन के महीने में चार सोमवार पढ़ने वाले हैं और दोस्तों पहला सोमवार का व्रत 18 जुलाई को होगा दोस्तों सावन का महीना शिव जी के भक्तों के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है और यह सावन के त्यौहार में शिव भक्त शिव जी की भक्ति में लीन रहा करते हैं हिंदू धर्म में यह माना जाता है कि सावन के महीने में भगवान शिव की विधि विधान के तौर पर उनकी आराधना और उनकी पूजा-अर्चना गणेश भगवान की हर मुराद हर पति को पूरा करें और इस महीने में दोस्तों कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो पूरा सावन व्रत ही रखते हैं दोस्तों को भी कहा जाता है कि सावन के महीने में कुछ आए थे काम को करने से मना किया गया और ऐसा कहा जाता है कि यह कार्य करने से भगवान शिव नाराज हो जाते हैं। तो आइए हम आप लोगों को बताते हैं कि यह काम करना सावन के महीने में क्यों मना है

ezgif.com gif maker 2022 07 14T152501.181

यह नियम सब लोगों पर लागू नहीं है

हिंदू धर्म शास्त्र की अगर बात माने तो दोस्तों सावन का महीना भक्ति करने के लिए सबसे पवित्र और सबसे अच्छा माना जाता है इस महीने में बहुत से लोग शिवजी को कांबर चाहते हैं। और बहुत सारे धार्मिक जतन भी किए जाया करते हैं इसलिए दोस्तों जब तक काम बढ़ता था अनुष्ठान का कार्य पूरा नहीं हो जाता तब तक लोग अपने सर और दाढ़ी के बाल नहीं बन बाते और नाखून भी नहीं काटते हैं। ज्योतिष शास्त्र में और बहुत से ज्योतिषियों के मुताबिक यह कार्य कोई जरूरी नहीं है कोई अपनी इच्छा से नहीं भी कटवा सकता है अगर कोई व्यक्ति अपने दाढ़ी बाल कटवाना चाहता है तो वह कटवा सकता है।

नाखून बाल और दाढ़ी ना कटवाना होता है शुभ

दोस्तों हिंदुओं के शास्त्रों में बताया गया है कि सावन के महीने में दाढ़ी या फिर सर के बाल या नाखून कटवाना वर्जित होता है शास्त्रों में कहा जाता है कि अगर कोई व्यक्ति नियमित रूप से सावन के व्रत रखता है तो वह हर रोज शिवजी के मंदिर में जाए पूजा आराधना करें और अपने सर के बाल दाढ़ी और नाखून बिल्कुल भी ना काटे और इसके साथ-साथ दोस्तों शरीर पर तेल की मालिश करना भी वर्जित बताया गया है यह कहा जाता है कि ऐसा करना ग्रह दोष माना जाता है और ऐसा करने से सावन के माह में रखे गए व्रत को भी मानने नहीं किया जाता

ये भी पढ़ें

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here