HomeSamacharRaksha Bandhan 2022 : रक्षा बंधन कब होगा, जानिये मुहूर्त, तारीख, और...

Raksha Bandhan 2022 : रक्षा बंधन कब होगा, जानिये मुहूर्त, तारीख, और राखी बंधन विधि.

Rakdhabandhan 2022 : नमस्कार रक्षाबंधन का त्यौहार हर साल सावन के महीने में पूर्णिमा की तारीख को मनाया जाया करता है. और दोस्तों इस दिन को बहन ने अपने भाई की कलाई पर राखी को बंधा करती हैं और अपने भाई की लंबी आयु के दुआ करा करती हैं. दोस्तों साथ ही इसके बदले में जो भाई होते हैं वह अपनी बहनों को उसकी रक्षा का वचन भी करते हैं और जो बहन और भाई के प्यार का प्रतीक है वह रक्षाबंधन का त्यौहार इस वर्ष भी 11 अगस्त के दिन गुरुवार को मनाया जाने वाला है. दोस्तों रक्षाबंधन का पर्व बहुत खास इसलिए होता है क्योंकि दोस्तों इस पर्व पर रवि योग में इसको मनाया जाता है. तो आइए आप लोगों को इस की परंपरा शुभ मुहूर्त और इसके बारे में कुछ डिटेल से हम आपको बताने वाले हैं.

ezgif.com gif maker 2022 07 06T122937.113

रक्षाबंधन मनाने की विधि क्या है

एक थाली में अक्षत, रोली, दही रात और दही, राखी, मिठाई और घी का एक दीपक रखें. बहन अपने भाई को पूर्व या फिर उत्तर दिशा की ओर मुंह करके बिठा देती है फिर बहन अपने भाई के माथे पर तिलक लगा देती है और रक्षा सूत्र बांधने जाते हैं. फिर भाई की आरती उतारने के बाद उसको मिठाइयां खिलाई जाती हैं और फिर उसकी लंबी आयु की दुआ करती है.

शुभ मुहूर्त

दोस्तों रक्षा बंधन पार्व का अबूझ मुहूर्त को देखकर राखी को बांधा जाना शुभ कार्य माना जाया कर्ता है. दोस्तों इस बार का शुभ मुहूर्त सुबह 09 बजकर 28 मिनट से रात 09 बजकर 14 मिनट तक रहने वाला. सुबह 05 बजकर 48 मिनट से 06 बजकर 53 मिनट तक रवि योग होने वाला है. और शाम को 06 बजकर 55 मिनट से रात को 08 बजकर 20 मिनट तक अमृत योग होगा. इस पर्व में में भद्रा का अधिक ध्यान रखा जाया कर्ता है. शास्त्र के अनुसार, भद्राकाल में राखी बांधना अशुभ है.

रक्षाबंधन की तारीख

दोस्तों यह त्यौहार जो है वह सावन के महीने में और पूर्णिमा की तिथि को जोर-शोर से मनाया जाता है. और इस साल दोस्तों सावन माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तारीख है वह गुरुवार को 11 अगस्त को पड़ने वाली है. और इसका जो मुहूर्त है वह 10:38 से शुरू होने वाला है और शुक्रवार 12 अगस्त को सुबह 7:05 पर बंद हो जाएगा. उदया तिथि होने के कारण रक्षाबंधन का पर्व 11 अगस्त को ही मना लिया जाएगा.

इस त्यौहार का इतिहास

दोस्तों हिंदू धर्म की मान्यताओं के मुताबिक भगवान कृष्ण ने शिशुपाल का वध किया था तो उनके एक बाएं हाथ की उंगली से खून निकलने लगा. फिर द्रौपदी ने देख कर बहुत दुख जताया और उनको अपनी साड़ी का एक टुकड़ा चीरकर कृष्ण जी की उंगली पर बांध दिया था. तभी से दोस्तों इस रक्षाबंधन को मनाने की परंपरा चली आ रही है हालांकि से जुड़े कोई और किस्से कहानियां अभी तक नहीं मिले हैं.

यह भी पढ़ें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular