HomeBiographyParenting Gyan - भारतीय माता पिता की 12 ऐसी आदतें जो बच्चे...

Parenting Gyan – भारतीय माता पिता की 12 ऐसी आदतें जो बच्चे को कर देतीं है बर्बाद.

Parenting Tips : सही परवरिश से बच्चों की परवरिश करना बहुत मुश्किल है। कभी-कभी यह तय करना बहुत मुश्किल हो जाता है कि बच्चे के लिए कौन सी चीजें सही हैं और कौन सी नहीं। अक्सर माता-पिता ऐसी गलतियां कर देते हैं जिससे बच्चे बिगड़ जाते हैं। ऐसे में आज हम आपको भारतीय माता-पिता की कुछ ऐसी आदतों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो बच्चों की जिंदगी तबाह कर सकती हैं। आइए जानते हैं माता-पिता की इन आदतों के बारे में.

ezgif.com gif maker 40 2

फिजूलखर्ची– बच्चों में फिजूलखर्ची की आदत माता-पिता से ही आती है। बच्चों को इस बुरी आदत से बचाने के लिए खुद को गलत तरीके से खर्च न करें और बच्चे की हर जिद पूरी न करें साथ ही उन्हें समय-समय पर पैसे की अहमियत भी समझाएं।

धैर्य– एक चीज जिसका आज की पीढ़ी को सामना करना पड़ रहा है वह है धैर्य की कमी। ऐसे में जरूरी है कि आप खुद में धैर्य लाएं, खासकर तब जब परिस्थितियां आपके काबू में न हों। माता-पिता के लिए भी यह बहुत जरूरी है कि आप अपने बच्चे को धैर्य रखना सिखाएं।

असफलताओं के लिए बच्चे को दोष देना– बच्चे को जन्म देने का निर्णय माता-पिता का अपना होता है। इसलिए अगर आपको बच्चा या उसका व्यवहार बुरा लगता है, तो उसके बारे में बुरा न बोलें क्योंकि यह आपका अपना फैसला था। आप कितने भी गुस्से में क्यों न हों, लेकिन बच्चों पर गुस्सा न निकालें।

बड़ों की बातों में बच्चों को शामिल करना– जब भी आप किसी चीज की बात कर रहे हों तो जरूरी है कि उसमें बच्चों को शामिल न करें। अगर वह बात बच्चे के मायने नहीं रखती तो बेहतर है कि उसे इससे दूर ही रखा जाए। बड़ों की बात सुनकर बच्चे अपने दिमाग में चीजों को आंकने लगते हैं।

ezgif.com gif maker 41

माँगने से पहले इच्छा पूरी करना – कई बार माता-पिता बच्चों से माँगने से पहले उनके लिए चीजें लाते हैं। इससे बच्चे को लगता है कि कुछ बोलने की जरूरत नहीं है क्योंकि आप बिना बोले उसकी जरूरतें और इच्छाएं पूरी करते हैं। ऐसा करने से आपके बच्चे पर बहुत बुरा असर पड़ सकता है। ऐसे में जरूरी है कि जब तक बच्चा खुद से किसी चीज का जिक्र न करे, उसे वह चीज न दें। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि आप अपने बच्चे की सिर्फ वही जरूरतें पूरी करें जो सही हो और वो चीजें जिनकी उसे वाकई जरूरत है।

बच्चों के सामने झूठ बोलना– माता-पिता के लिए जरूरी है कि भूलकर भी बच्चे के सामने झूठ न बोलें। इससे बच्चे को गलत संकेत मिलते हैं और वह भविष्य में काफी परेशानी में पड़ सकता है। जब आप किसी भी स्थिति से बचने के लिए बच्चे के सामने लेट जाते हैं, तो आपका बच्चा भी भविष्य में खुद को बचाने के लिए इस ट्रिक का इस्तेमाल कर सकता है। बच्चे को उससे झूठ बोलने के दुष्परिणामों के बारे में बताएं।

माँगने से पहले इच्छा पूरी करना – कई बार माता-पिता बच्चों से माँगने से पहले उनके लिए चीजें लाते हैं। इससे बच्चे को लगता है कि कुछ बोलने की जरूरत नहीं है क्योंकि आप बिना बोले उसकी जरूरतें और इच्छाएं पूरी करते हैं। ऐसा करने से आपके बच्चे पर बहुत बुरा असर पड़ सकता है। ऐसे में जरूरी है कि जब तक बच्चा खुद से किसी चीज का जिक्र न करे, उसे वह चीज न दें। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि आप अपने बच्चे की सिर्फ वही जरूरतें पूरी करें जो सही हो और वो चीजें जिनकी उसे वाकई जरूरत है।

विकल्प और निर्णय देने की स्वतंत्रता– कभी-कभी माता-पिता बच्चे को किसी भी स्थिति से निपटने के लिए कई विकल्प देते हैं और उन्हें स्वयं निर्णय लेने के लिए कहते हैं। वैसे तो बच्चों में एक समझ होती है कि जब वे खुद निर्णय लेते हैं, लेकिन कई बार बच्चे किसी भी स्थिति का सामना करने और दूसरों के साथ तालमेल बिठाने के बजाय कोई और विकल्प चुनने लगते हैं।

माँगने से पहले इच्छा पूरी करना – कई बार माता-पिता बच्चों से माँगने से पहले उनके लिए चीजें लाते हैं। इससे बच्चे को लगता है कि कुछ बोलने की जरूरत नहीं है क्योंकि आप बिना बोले उसकी जरूरतें और इच्छाएं पूरी करते हैं। ऐसा करने से आपके बच्चे पर बहुत बुरा असर पड़ सकता है। ऐसे में जरूरी है कि जब तक बच्चा खुद से किसी चीज का जिक्र न करे, उसे वह चीज न दें। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि आप अपने बच्चे की सिर्फ वही जरूरतें पूरी करें जो सही हो और वो चीजें जिनकी उसे वाकई जरूरत है।

तुलना– सभी बच्चे एक जैसे नहीं होते, दो भाई-बहनों में भी बहुत अंतर होता है। हर किसी में अच्छाई और बुराई दोनों होती है। आपका बच्चा भले ही एक चीज में दूसरों से बेहतर न हो, लेकिन कुछ चीजें ऐसी होंगी जिसमें वह सबसे अच्छा होगा। इसलिए ऐसी स्थिति में अपने बच्चे की तुलना किसी और से न करें।

पढ़ाने के बजाय डांटना– कभी-कभी माता-पिता अपने बच्चों को कुछ न समझने पर डांटना शुरू कर देते हैं। इससे बच्चा आगे कुछ भी पूछने से बहुत डरता है। माता-पिता के चिल्लाने और गुस्से से बच्चे भविष्य में बहुत ज्यादा नाराज भी हो सकते हैं।

कभी हार मत मानो, हमेशा जीतो – आज के समय में बच्चों के बीच होड़ बहुत ज्यादा बढ़ गई है. ऐसे में हर माता-पिता बच्चों को जीतने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। लेकिन इन सबके बीच माता-पिता अपने बच्चों को असफलता से निपटना नहीं सिखाते। हालांकि कोई भी माता-पिता नहीं चाहते कि उनका बच्चा हारे या फेल हो, लेकिन यह बहुत जरूरी है कि आप बच्चे को इस स्थिति से निपटना सिखाएं। इसकी वृद्धि और विकास के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है।

बाहर खेलने के बजाय स्क्रीन के उपयोग की अनुमति देना– आजकल कई बच्चे मैदान में बाहर खेलने के बजाय स्मार्टफोन, टैबलेट या लैपटॉप पर गेम खेलना पसंद करते हैं। ऐसा करने से आपका बच्चा तकनीकी रूप से होशियार हो जाता है लेकिन इसका उसके समग्र विकास पर बहुत बुरा असर पड़ता है। लगातार कई घंटों तक स्क्रीन के सामने बैठने से बच्चों की आंखों पर बुरा असर पड़ता है। साथ ही इसका असर बच्चों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर भी पड़ता है।

नखरे को प्यार समझना– कई माता-पिता अपनी ऊर्जा और समय बचाने के लिए अपने बच्चों की हर जिद को प्यार समझते हैं और बिना कुछ कहे उसे पूरा करते हैं। ऐसे में बच्चे अपनी भावनाओं को नियंत्रित करना नहीं सीख पाते हैं। बच्चों की हर जिद पूरी होने के कारण वे सही और गलत में फर्क करना नहीं सीख पाते।

ये भी देखें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular