HomeSamacharLaxmi Puja Timing 2022 : आज दिवाली पर रात 8:16 मिनट तक...

Laxmi Puja Timing 2022 : आज दिवाली पर रात 8:16 मिनट तक रहने वाला है लक्ष्मी पूजा का सबसे अच्छा मुहूर्त, जानिये पूजा की पूरी विधि.

दिवाली 2022 लक्ष्मी पूजन मुहूर्त: दिवाली का त्योहार जीवन में खुशियां और नया जोश लेकर आता है। दीपावली का पर्व मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए बहुत ही शुभ माना जाता है। हालांकि यह त्योहार अकेले नहीं आता है, लेकिन इसे हिंदू धर्म में पंच पर्व के रूप में मनाया जाता है। पहले धनतेरस फिर नरक या रूप चतुर्दशी फिर दिवाली, फिर गोवर्धन पूजा और फिर भाई दूज। दिवाली की रात भगवान गणेश और मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है। शास्त्रों के अनुसार दिवाली के दिन शुभ मुहूर्त में गणेश-लक्ष्मी की पूजा करने से घर में सुख-समृद्धि और सुख-समृद्धि आती है। मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है।

ezgif.com gif maker 83 2

जानिए इस साल दीवाली पूजा का शुभ मुहूर्त-

दिवाली के दिन लक्ष्मी पूजन मुहूर्त शाम 06.53 बजे से रात 08.16 बजे तक रहेगा. इसकी अवधि 01 घंटा 23 मिनट है।

दिवाली लक्ष्मी मुहूर्त 2022-

प्रदोष काल – 05:43 अपराह्न से 08:16 अपराह्न तक। वहीं वृषभ राशि की अवधि शाम 06.53 बजे से रात 08.48 बजे तक रहेगी।

लक्ष्मी पूजा की अवधि केवल 1 घंटा 23 मिनट है

दिवाली 2022 शुभ मुहूर्त-

दिवाली हर साल कार्तिक मास की अमावस्या को मनाई जाती है। इस साल अमावस्या तिथि 24 अक्टूबर को शाम 05.27 बजे से शुरू होगी, जो 25 अक्टूबर को शाम 4:18 बजे समाप्त होगी.

दिवाली के दिन बन रहे हैं ये शुभ मुहूर्त-

  • अभिजीत मुहूर्त – सुबह 11:43 बजे से दोपहर 12:28 बजे तक।
  • विजय मुहूर्त- दोपहर 01:58 बजे से दोपहर 02:43 बजे तक।
  • गोधूलि मुहूर्त- 05:43 अपराह्न से 06:08 अपराह्न तक।
  • शाम – 05:43 अपराह्न से 06:59 अपराह्न तक।
  • अमृत ​​काल- सुबह 08:40 बजे से 10:16 बजे तक।
  • निशिता मुहूर्त – 11:40 अपराह्न से 12:31 पूर्वाह्न, 25 अक्टूबर

मां लक्ष्मी-गणेश पूजा विधि-

  • सबसे पहले पूजा का व्रत लें।
  • श्री गणेश, लक्ष्मी, सरस्वती जी के साथ कुबेर जी के सामने एक-एक करके सामग्री अर्पित करें।
  • इसके बाद देवताओं के सामने घी के दीपक जलाएं।
  • ओम श्री श्री हूं नमः का 11 बार या एक माला जाप करें।
  • पूजा के स्थान पर एकाक्षी नारियल या 11 कमलगट्टे रखें।
  • श्री यंत्र की पूजा करें और इसे उत्तर दिशा में स्थापित करें।
  • देवी सूक्त का पाठ करें।

ये भी देखें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments