HomeIndian FactGreen Chilli Facts : भारतीय व्यंजन की जान है हरी मिर्च, जानिये...

Green Chilli Facts : भारतीय व्यंजन की जान है हरी मिर्च, जानिये इसके बारे में अद्भुत बातें.

Green Chilli Fact : दोस्तों हमारे देश में भोजन में बहुत प्रकार के मसाले डाले जाते हैं जिनसे भोजन की रंगत और स्वाद बदल जाता है. इन्हीं मसालों में दोस्तों एक है हरी मिर्च दोस्तों सूखने के बाद यह लाल मिर्च में बदल जाती है. दोस्तों इस कि तीखापन स्वाद के साथ-साथ हमारे शरीर को भी काफी फायदा पहुंचाता है. दोस्तों इसमें बहुत से गुण है और यह विदेशी पौधा है. और लगभग आज से 700 वर्ष पहले यह हमारे देश में आया था. अब दोस्तों आपके मन में यह सवाल होगा कि इससे पहले खाने की चीज़ों में तीखापन किस तरीके से और किस मसाले का इस्तेमाल करके आया करता था. दोस्तों एक बड़ी बात यह भी है कि हमारे प्राचीन भारत में रसों के स्वाद के लेकर भी काफी बातें बताई गई है.

ezgif.com gif maker 2022 07 17T095946.143

और दोस्तों यह जो हरी मिर्च है इसका इतिहास बहुत ही अधिक पुराना माना जाता है. ओरेगन स्टेट यूनिवर्सिटी (अमेरिका) स्थित वनस्पति विज्ञान और प्लांट पैथोलॉजी विभाग की एक अच्छी प्रोफ़ेसर ने इसके बारे में विस्तार से बताया है. 

भारत में वास्कोडिगामा हरी मिर्च को लाया था

दोस्तों हम आपको बताते हैं कि green chilli भारत में कैसे पहुंची और कैसे यह भारत के व्यंजनों का एक जरूरी हिस्सा बन गई. कई रिपोर्टों में यह बताया जाता है कि पुर्तगाली कारोबारी वास्कोडिगामा (जीवन-काल वर्ष 1460-1524) जब भारत में काली मिर्च को लेने के लिए आया था तब वह दोस्तों हरी मिर्च लेकर भारत पहुंचा था. और फिर इसके बाद दोस्तों हमारे देश में हरी मिर्च का सफर एक शानदार सफर बन गया. और दोस्तों हमारा भारत देश लाल मिर्च और हरी मिर्च को अमेरिका जर्मनी फ्रांस ब्रिटेन और सऊदी अरब जैसे बहुत सारे देशों को भेजता है. हमारी विश्व में मिर्च का जितना भी उत्पादन हुआ करता है उसमें लगभग 25% उत्पादन मात्र हमारे देश भारत में होता है. 

हरी मिर्च की उत्पत्ति मेक्सिको में हूं

दोस्तों एक प्रोफेसर बताती हैं कि हरी मिर्च की उत्पत्ति मेक्सिको में हुई थी और हरी मिर्च मेक्सिको देश में लगभग 5000 ईसा पूर्व से उगाई जा रही थी. और दोस्तों मैक्सिकन के मनुष्य हरी मिर्च को मसालों के तौर पर भोजन में सवाल किया करते थे. यह भी कहा जाता है कि दोस्तों जो बची हुई दुनिया थी उससे हरी मिर्च का परिचय और संबंध जब से जुड़ा जब एक नाविक क्रिस्टोफर कोलंबस (जीवन-काल वर्ष 1451-1506) समुद्र के जरिए हमारे देश में भारत की खोज करते करते जब अमेरिका पहुंचे थे. और उसी दौरान हरी मिर्च यूरोप के अन्य देशों में पहुंची और भोजन का एक अंग बन गई.

दोस्तों बात यह है कि हरी मिर्च को मेक्सिको से अमेरिका पहुंचने में सालों का समय लगा तो इस बीच हरी मिर्च का क्या हुआ? क्या वह दोस्तों इससे पहले सिर्फ मेक्सिको में ही थी. और एक बात यह भी कही जाती है कि कोलंबस से एक खोजकर्ता नाविक थे कोई व्यापारी नहीं थे. और यह भी कहा जाता है कि कोलंबस की अभी कोई भी पुख्ता जानकारी नहीं है कि वह स्पेन इटली और पुर्तगाल में से किस देश के नागरिक है और इसी के साथ दोस्तों हरी मिर्च के बारे में कुछ ऐसे सवाल खड़े हो जाते हैं. 

हरी और लाल मिर्च से पहले भी काफी तीखे मसाले हुआ करते थे

यह भी एक बड़ा सवाल है कि दोस्तों भारत में हरी मिर्च आने से पहले भारत के व्यंजनों में तीखापन नहीं था क्या?  दोस्तों सवाल इसलिए है कि हजारों साल पहले प्राचीन भारत में शास्त्रों और ग्रंथों में 6 रसों के बारे में बताया गया है (स्वाद) जैसे मधुर (मीठा), अम्ल (खट्टा), लवण (खारा), कटु (तीखा), तिक्त (कड़वा) व कषाय (कसैला) और दोस्तों इनमें से जो तीखा स्वाद है वह हरी मिर्च के द्वारा ही पैदा होता है. इसलिए दोस्तों यह माना जाता है कि हरी मिर्च से पहले भी तीखे स्वाद वाले बहुत सारे मसाले हमारे देश में पहले से मौजूद थे. फिर दोस्तों बहुत सारे आयुर्वेदिक ग्रंथों को जब देखा गया तो उसमें काली मिर्ची, पीपली और भी कई तरीके के मसाले थे. जिनमें तीखापन मौजूद है और दोस्तों यह भोजन के अंग हुआ करते थे. इसलिए दोस्तों हम लोग इतना कह सकते हैं कि हरी मिर्च के भारत में आने के बाद मसालों में एक नया अंग जुड़ गया यह नहीं कह सकते कि हरी मिर्च के आने के बाद से ही हमारे व्यंजनों में तीखापन आया. 

मोटापे की बीमारी से दूर रखती है हरी मिर्च

दोस्तों न्यूट्रिशन एक्सपर्ट और डॉक्टर सभी यह कहते हैं कि आप लोगों को अपनी डाइट में हरी मिर्च को जरूर शामिल करना चाहिए क्योंकि हरी मिर्च हमारी बॉडी में जो एक्स्ट्रा फैट होता है उसको burn करती रहती है. जिस कारण हमारी बॉडी ज्यादा हैवी और वजन नहीं बढ़ता है. और यह हमारी बॉडी से कैलोरी को बर्न करके मोटापे को कंट्रोल रखती है इस हरी मिर्च के अंदर दोस्तों beta-carotene और विटामिन सी की मात्रा भी भरपूर होती है. जो हमारी आंखों को स्वस्थ रखती है इसके अंदर मौजूद दोस्तों पोटेशियम हमारे हृदय गति को भी ठीक करता है. और दिल की बहुत सी बीमारियों में फायदा करता है हरी मिर्च के अंदर दोस्तों एंटीबैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं. जो हमारे शरीर को किसी भी संक्रामक रोग या फिर किसी भी इंफेक्शन से बचाते हैं. 

इसके अंदर दोस्तों फाइबर अधिक मात्रा में होता है जो हमारे पाचन क्रिया को दुरुस्त करता है. और हरी मिर्च से कभी भी कोई नुकसान नहीं हो सकता अगर आप लोग इसका अधिक इस्तेमाल कर लेते हैं. तो हो सकता है आपके पेट में जलन या फिर जी मिचलाना जैसी समस्या आ सकती है. और ज्यादा इस्तेमाल करने से ही आपके मुंह में जलन पैदा कर सकती है. इसलिए दोस्तों किसी भी चीज को अगर आप लोग सीमित मात्रा में खाते हैं तो आपको कभी कोई नुकसान नहीं हो सकता. 

लाल और हरी मिर्ची दोनों है फायदेमंद

वैसे दोस्तों हरी मिर्च की में बहुत से ऐसे गुण है जिसके बारे में हरी मिर्च से जानी जाती है. और इसका तीखा स्वाद तो सभी लोगों को पता है इसमें बहुत ही कड़वा रस होता है. जो हमारे मुंह से लार निकालता है और हरी मिर्च का प्रयोग आचार जैसे बहुत सारे व्यंजनों में किया जाता है. दोस्तों हरी मिर्च पकने के बाद लाल हो जाती है और फिर इसको सूखा लिया जाता है फिर इसको लाल मिर्च कह सकते हैं. जिसका इस्तेमाल अधिकतर हमारे व्यंजनों में किया जाता है और हरी मिर्च के बहुत सारे फायदे हैं दोस्तों हरी मिर्च को प्राकृतिक दर्द निवारक औषधि भी कहा जाता है. 

ये भी पढ़ें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular