HomeSamacharCyrus Mistry ने ना करी होती ये गलतियाँ तो नहीं होता हादसा,...

Cyrus Mistry ने ना करी होती ये गलतियाँ तो नहीं होता हादसा, एक्सपर्ट कहते है कि कार में अक्सर लोग ये गलतियाँ करते हैं.

Cyrus Mistry Car Accident : टाटा समूह के पूर्व चेयरमैन और बिजनेस टाइकून साइरस मिस्त्री की रविवार, 4 सितंबर को मुंबई-अहमदाबाद राजमार्ग पर एक सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो गई। कहने को तो वह मर्सिडीज जीएलसी 200डी एसयूवी में थे। 62 लाख रुपये की कीमत वाली इस कार में 7 एयरबैग थे। इस एसयूवी को 5-स्टार सेफ्टी रेटिंग मिली है। अब सवाल यह उठता है कि इतनी सुरक्षित कार में रहने के बाद भी उनकी मौत कैसे हुई। दरअसल, सफर के दौरान साइरस ने 3 गलतियां कीं। अगर उसने ये गलतियां नहीं की होती तो शायद उसकी जान बच जाती। इस मामले को लेकर ऑटो एक्सपर्ट और यूट्यूबर आस्क कारगुरु अमित खरे ने कई ऐसी बातें बताईं जिनका कार के अंदर बैठे हर यात्री को हमेशा पालन करना चाहिए। अगर आप इनका पालन करते हैं तो 2 एयरबैग वाली कार में भी सुरक्षित रहेंगे। आइए आपको बताते हैं इन सब के बारे में।

ezgif.com gif maker 2022 09 07T150712.972

साइरस मिस्त्री ने इन 3 बातों का ध्यान नहीं रखा

पहली बात: साइरस मिस्त्री के साथ सफर के दौरान 3 गलतियां हुईं। पुलिस के मुताबिक उसने सीट बेल्ट नहीं लगाई हुई थी। यह उनकी पहली और सबसे बड़ी भूल थी। नियम के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति को कार चलाते समय सीट बेल्ट लगानी चाहिए। सीट बेल्ट लगाना भी यातायात नियमों में शामिल है। अगर वह सीट बेल्ट लगाते तो आज हालात कुछ और होते।

दूसरी बात: वैसे साइरस मिस्त्री ने इस पूरे मामले में लापरवाही बरती। सीट बेल्ट नहीं लगाना, तेज गति से गाड़ी चलाना और कार के अंदर सही स्थिति में न बैठना उनकी एक बड़ी लापरवाही रही होगी। क्योंकि सीट बेल्ट लगाने के बाद यात्री का आराम खत्म हो जाता है।

तीसरी बात: उनकी Mercedes GLC 200D SUV हाईवे पर ओवर स्पीड से दौड़ रही थी. हादसे से ठीक पहले उनकी कार ने 9 मिनट में 20 किमी की दूरी तय की थी। यानी उसकी रफ्तार 150 किमी/घंटा थी। जबकि नियम के मुताबिक हाईवे पर कार की अधिकतम स्पीड 100 किमी/घंटा होनी चाहिए।

एयरबैग किस स्थिति में नहीं खुलता है?

  1. अगर फ्रंट बंपर पर पहरा है तो क्या एयरबैग नहीं खुलेंगे?
    अमित खरे ने बताया कि अगर कार के फ्रंट बंपर में गार्ड लगवा लिया जाए तो कई बार उसमें सेंसर छिपे होते हैं. ऐसे में हादसे के वक्त सेंसर को पता नहीं चल पाता है कि गाड़ी किसी चीज से टकरा गई है. इस वजह से एयरबैग नहीं खुलते। यानी कार में एयरबैग होने के बाद भी बिना एयरबैग वाली कार जैसी हो जाती है। इसलिए सरकार ने कार में इन सेफ्टी गार्ड्स के इस्तेमाल पर रोक लगा दी है।

सीट बेल्ट न लगाने पर क्या एयरबैग नहीं खुलेंगे?

  1. सेफ्टी के लिहाज से अब सीट के ऊपर भी सेंसर आने लगे हैं। ये सेंसर पता लगाते हैं कि सीट के ऊपर कोई बैठा है या नहीं। इस कारण सीट पर बैठते ही सीट बेल्ट लगाने का अलर्ट आने लगता है। ऐसे में जब हम सीट बेल्ट लगाते हैं तो एयरबैग ठीक से काम करता है। हालांकि ऐसा नहीं है कि सीट बेल्ट नहीं पहनने पर एयरबैग नहीं खुलेंगे। कभी-कभी फ्रंट एयरबैग नहीं खुलते हैं, लेकिन साइड एयरबैग खुल जाते हैं। हालांकि, ज्यादातर कारों में साइड एयरबैग नहीं होते हैं। अब ज्यादातर कारों की प्रक्रिया सेंसर पर टिकी हुई है।

सीट बेल्ट लगाते समय इन बातों का रखें ध्यान

  1. सीट बेल्ट लगाने से पहले सीट को एडजस्ट करना बहुत जरूरी है। पुलिस वालों से बचने के लिए लोग लेटते समय भी सीट बेल्ट बांध लेते हैं।
  2. बहुत से लोग क्राउच में बैठकर सीट बेल्ट का इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में दुर्घटना के समय कई बार बेल्ट शरीर में गलत जगह पर बंध जाती है। जिससे गर्दन या कंधे में चोट लग जाती है।
  3. कार में अलर्ट बैठना भी बहुत जरूरी है। चेतावनी का अर्थ है कि व्यक्ति को उचित स्थिति में बैठना चाहिए। आसन पर न बैठें। पीछे की ओर बात मत करो।
  4. आपने सीट बेल्ट नहीं लगाई थी और एयरबैग्स रिवर्स डैमेज हो सकते थे। दुर्घटना के समय एयरबैग नैनो सेकेंड में खुल जाते हैं, जो बचाने के बजाय नुकसान पहुंचाते हैं।

अगर सीट बेल्ट लगा दी जाए तो बचने की संभावना बहुत ज्यादा होती है।
हमेशा ध्यान रखें कि सीट बेल्ट दुर्घटना के दौरान यात्री को सबसे पहले सुरक्षा देती है। IPS स्वाति लकड़ा ने 2019 में एक वीडियो शेयर किया है जिसमें बताया गया है कि सीट बेल्ट लगाने के बाद एयरबैग कितना सुरक्षित है।

ये भी पढ़ें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular