HomeIndian Fact61 वर्ष के बाद Sprite cold drink की बोतल का बदलेगा हरा...

61 वर्ष के बाद Sprite cold drink की बोतल का बदलेगा हरा रंग, अब आएगा ये नया कलर.

Sprite bottle change colour : दोस्तों हर वस्तु की एक उम्र होती है और हर चीज की एक उम्र होती है. उसके बाद वह समाप्त हो जाती है लेकिन दोस्तों उसकी छाप हमारे दिल और दिमाग पर बैठ जाती है और वह हमेशा बनी रहती है. दोस्तों ऐसी ही एक चीज खत्म होने वाली है. वह है दोस्तों की स्प्राइट की बोतल का रंग. दोस्तों 61 वर्ष के बाद कंपनी ने यह फैसला लिया है कि अब sprite की हरी बोतल का रंग बदला जाएगा. Sprite green bottle अब दोस्तों 1 अगस्त से sprite की हरे रंग का की बोतल आप लोगों को नहीं दिखने वाली है. कंपनी ने इसके लिए एक नया रंग प्रयोग किया है लेकिन हमारे दिल और दिमाग में पुरानी sprite की हरी बोतल शायद हमेशा के लिए बची रहे.

ezgif.com gif maker 2022 08 01T184232.464

अब स्प्राइट नए रंग के बोतल में आएगी

Sprite  को बनाने वाली अमेरिका की कोको कोला कंपनी (Coca Cola) ने 61 बरस के बाद इस मशहूर cold drink को अब एक सफेद कलर या फिर ट्रांसपेरेंट बोतल में बेचने का फैसला किया है. पर्यावरण के लिहाज से अपनी जिम्मेदारी को निभाने को लेकर कंपनी ने इस फैसले को लिया है. कंपनी कहती है कि sprite की हरे रंग की बोतल को रिसाइकल करके फिर से बोतल नहीं बनाया जा सकता. इसलिए कंपनी ने कहा है कि हम इस पोर्टल को बंद करेंगे लेकिन दोस्तों इस हरे रंग की बोतल का इस्तेमाल करके कई अन्य चीजें भी बनाई जा रही है. 

बोतल का रंग क्यों बदला

दोस्तों हरे रंग की इस बोतल को पॉलीइथाइलीन टेरेफ्थेलेट (PET) से बनाया जाता है. इसको रिसाइकल करने के बाद दोस्तों कालीन जैसे सिंगल यूज होने वाले प्रोडक्ट बनाए जाते हैं. कंपनी यह बताती है कि ट्रांसपेरेंट बोतल को रिसाइकल करके फिर से बोतल बनाया जा सकता है. कंपनी बताती है कि ग्रीन प्लास्टिक को रिसाइकल किया जाता है लेकिन हमेशा यह बहुत सरल काम नहीं होता. हरे रंग के कारण कभी-कभी ऐसा होता है कि यह बोतल दोबारा प्रयोग के लायक ही नहीं बचती. 

हरी स्प्राइट की दो 1961 में हुई थी शुरुआत

कोका कोला कंपनी बताती है कि sprite की हरी बोतल को सफेद रंग या फिर ट्रांसपेरेंट रंग में बदला जा रहा है. दोस्तों इस प्लास्टिक के ट्रांसपेरेंट मटेरियल को दोबारा से बोतल बनाने में यूज किया जा सकता है. 1961 में दोस्तों lemon सॉफ्ट ड्रिंक के रूप में कंपनी ने इसको बनाया था. 1961 में कोको कोला ने sprite को पेप्सी के एक ब्रांड 7up के मुकाबले में उसको उतारा था. अच्छा अगर हम आज के समय की बात करें तो दोस्तों दुनिया की तीसरे नंबर की बिकने वाली कोल्ड ड्रिंक sprite है. भारत समेत 190 से अधिक देशों में इसकी बिक्री की जाती है. 

हल्के हल्के बोतल बदली जाएगी

कंपनी ने बताया है कि हम इसकी शुरुआत नॉर्थ अमेरिका से करने वाले हैं फिर दोस्तों धीरे-धीरे भारत समेत अन्य देशों में sprite की बोतल को बदला जाएगा. एक रिपोर्ट में बताया गया है कि कोकोकोला हर साल लगभग 3000000 टन प्लास्टिक का इस्तेमाल करता है. बोतलों को बनाने के लिए 2021 में कोका कोका कोला का रेवेन्यू 38.66 अरब डॉलर यानी कि 300000 करोड रुपए था. 

प्लास्टिक मुक्त होने की कोशिश में जुटे हैं कई देश

कोका कोला कंपनी ये फैसला तब ले रही है जब दुनिया के बहुत सारे देश है प्लास्टिक को बंद करने की सोच में डटे हुए हैं. दोस्तों भारत में भी सिंगल यूज प्लास्टिक पर बैन लगा दिया गया है. कनाडा भारत अमेरिका समेत दुनिया के बहुत से ऐसे देश है जो पर्यावरण को मद्देनजर रखते हुए प्लास्टिक पर रोक लगा रहे हैं. 

ये भी पढ़ें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular