HomeIndian FactChanakya niti : ऐसी महिला से सम्बंध बनाने से पहले जान लें...

Chanakya niti : ऐसी महिला से सम्बंध बनाने से पहले जान लें ये 5 बातें, जिंदगी नर्क बन सकती है.

Chanakya niti : आचार्य चाणक्य ने उस समय जो बातें कही थीं, वे आज भी बहुत महत्वपूर्ण हैं और जो व्यक्ति उनके मार्ग पर चलता है। वह जीवन में सफल हो जाता है और उसके जीवन की सभी परेशानियां समाप्त हो जाती हैं। चाणक्य ने बताया है कि किसी भी पुरुष को इस तरह की महिला से दूर रहना चाहिए क्योंकि ये महिलाएं किसी को भी पूरी तरह बर्बाद कर सकती हैं।

ezgif.com gif maker 84 1

दुष्ट औरत-

चाणक्य ने कहा था कि दुष्ट स्वभाव की स्त्री से दूर रहना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि ऐसी महिला अपने फायदे के लिए आपसे कुछ भी करवा सकती है और इसलिए आपको ऐसी महिला से कभी भी दोस्ती नहीं करनी चाहिए। दुष्ट स्वभाव वाली स्त्री अपने स्वार्थ का समय आने पर आपको हानि पहुँचाने से नहीं हिचकिचाती।

कई पुरुषों के साथ संबंध-

अगर आप जीवन में आगे बढ़ना चाहते हैं तो आपको कभी भी ऐसी महिलाओं के संपर्क में नहीं आना चाहिए जिनका संबंध कई पुरुषों से है यानी जो वेश्यावृत्ति का काम करती हैं। ये महिलाएं सिर्फ अपना फायदा देखती हैं और इन्हें सिर्फ पैसा चाहिए। यह इसके लिए कुछ भी कर सकता है और अपने फायदे के लिए आपके घर को पूरी तरह से बर्बाद कर सकता है और इसके उदाहरण आपने अपने आसपास देखे होंगे। इसलिए सलाह दी जाती है कि आप हमेशा वेश्याओं से दूर रहें।

लालची-

लोभ केवल स्त्री के लिए ही नहीं बल्कि किसी भी व्यक्ति के लिए बुरी चीज कहा जाता है। इसलिए हमारे पूर्वज सलाह देते हैं कि कोई भी इंसान लालची न हो। आपको बता दें कि लालच के कारण अच्छे घर बर्बाद हो जाते हैं और अगर कोई महिला लालची होने लगे तो उसके घर के सुख-समृद्धि पर प्रभाव पड़ता है। वहीं रिश्तों पर भी असर पड़ता है और परिवार को कई बार काफी तनाव का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए कोई भी महिला या कोई भी व्यक्ति लालची नहीं होना चाहिए।

अज्ञान-

चाणक्य का कहना है कि किसी भी महिला का शिक्षित होना बहुत जरूरी है। शिक्षित महिला ही अच्छे समाज का निर्माण कर सकती है। एक शिक्षित महिला का समाज के प्रति एक अलग नजरिया होता है। इससे वह समाज के विकास में अपना योगदान दे सकती है। वहीं अगर एक महिला शिक्षित है तो वह बच्चों के पालन-पोषण में अच्छी है और आज के दौर में एक महिला ने लिखित शिक्षा प्राप्त की है। वह कोई काम नहीं कर सकती। वह न तो नौकरी कर सकती है और न ही अपने बच्चों को पढ़ा सकती है।

घमंडी –

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि स्त्री को अभिमान नहीं करना चाहिए। जिस महिला को अपनी सुंदरता और किसी चीज पर गर्व हो, उसे उस महिला से दूर रखना चाहिए क्योंकि अहंकार महिला के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। सरस्वती क्रोधित हो जाती है। इससे घर से सुख-समृद्धि समाप्त होती है और आर्थिक स्थिति खराब होती है। इसलिए स्त्री को अभिमान नहीं करना चाहिए।

ये भी देखें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular