HomeSamacharChanakya Niti : भरोसे के लायक नहीं होती हैं ऐसी महिलायें आपकी...

Chanakya Niti : भरोसे के लायक नहीं होती हैं ऐसी महिलायें आपकी जिंदगी हो सकती है बर्बाद.

Chanakya niti : आचार्य चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र में धन, संपत्ति, पत्नी और मित्रता सहित सभी विषयों पर गहराई से बात की है। आज हम आचार्य चाणक्य के इन्हीं विचारों में से एक का विश्लेषण करेंगे।

ezgif.com gif maker 77

देश के महान विद्वानों और विद्वानों में से एक आचार्य चाणक्य अपनी नैतिकता के लिए बहुत प्रसिद्ध हैं। चाणक्य की नीतियों के बल पर ही चंद्रगुप्त मौर्य मगध का सम्राट बन पाया था। आचार्य चाणक्य ने एक नीति शास्त्र की भी रचना की है, जिसमें उन्होंने समाज के लगभग सभी विषयों के संबंध में सुझाव दिए हैं।

महान आचार्य चाणक्य की सदियों पुरानी नीतियां आज भी प्रासंगिक हैं। नीति पाठ यानी चाणक्य नीति में मानव जीवन को सरल और सफल बनाने से जुड़ी कई बातों का उल्लेख है। चाणक्य ने अपनी चाणक्य नीति में भविष्य को उज्ज्वल बनाने के उपाय बताए हैं, साथ ही जीवन में सफल होने और बुरे लोगों से बचने के उपाय भी बताए हैं।

आचार्य चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र में धन, संपत्ति, पत्नी और मित्रता सहित सभी विषयों पर गहराई से बात की है। आज हम आचार्य चाणक्य के इन्हीं विचारों में से एक का विश्लेषण करेंगे।आचार्य चाणक्य ने महिलाओं के बारे में बहुत कुछ कहा है। उदाहरण के लिए, उनका स्वभाव, उनका स्वभाव, उनकी सोच और वे किस समय कैसे व्यवहार करते हैं। इन बातों पर विशेष अध्ययन किया गया है।

चाणक्य ने अपने नीति ग्रंथ में लिखा है कि कुछ महिलाएं ऐसी होती हैं जिन पर कभी भरोसा नहीं करना चाहिए।चाणक्य अपनी नैतिकता में लिखते हैं

लुब्धनं याचक: शत्रु: मूर्खता, बोधको रेपु।

जरास्त्रिनं पति: शत्रुचौराणं चंद्रमा: रिपुह..

यानी चोर के लिए उसका सबसे बड़ा दुश्मन चंद्रमा होता है, क्योंकि वह चोरी के लिए हमेशा अंधेरे में रहता है। ताकि उसकी पहचान उजागर न की जा सके। लेकिन चांद की रोशनी से अंधेरा दूर हो जाता है।

ऐसी महिलाओं पर कभी भरोसा न करें

अभिमानी स्त्री पर माता सरस्वती और माता लक्ष्मी दोनों ही क्रोधित रहती हैं। ऐसे में न तो वह अपने ज्ञान का बुद्धिमानी से उपयोग कर पाती है। साथ ही उनके इस तरह के व्यवहार से सुख-समृद्धि भी समाप्त हो जाती है।

आचार्य चाणक्य के अनुसार स्त्री में लालच की भावना बहुत ही खतरनाक होती है। यह न सिर्फ घर की शांति भंग करता है बल्कि कई बार पूरे परिवार को बर्बाद भी कर देता है।

धर्म और कर्म में कम आस्था रखने वाली स्त्री पर कभी भी विश्वास नहीं करना चाहिए।

किसी महिला की खूबसूरती को देखकर उस पर भरोसा करना एक बड़ी भूल हो सकती है। उसके गुण बाह्य सौन्दर्य से अधिक महत्वपूर्ण होने चाहिए, सौन्दर्य से अधिक स्त्री की संस्कृति और शिक्षा को महत्त्व देना चाहिए।

आचार्य चाणक्य के अनुसार भ्रष्ट और बुरे चरित्र वाली महिला के लिए ऐसा कहा जाता है कि ऐसी महिला कभी भी भरोसेमंद नहीं होती है। वह हमेशा दूसरे पुरुषों की ओर आकर्षित होती है। ऐसे में उसका पति ही उसके लिए सबसे बड़ा दुश्मन होता है क्योंकि उसकी नीयत के बीच में रोड़ा होता है.

ये भी देखें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular