Amazon Prime Web Series ‘ Flames season 3 Full Review.

Flames season 3 trailer

दोस्ती, प्यार और भावनाओं की कहानी बताने वाली ‘फ्लेम्स’ वेब सीरीज के दूसरे सीजन को दर्शकों का खूब प्यार मिला. इस टीवीएफ सीरीज के तीसरे सीजन में रजत और इशिता जिंदगी की कुछ नई और बड़ी चुनौतियों का सामना करते नजर आ रहे हैं। ये चुनौतियाँ और बाधाएँ न केवल समय के साथ दोनों के रिश्ते को आगे बढ़ाती हैं, बल्कि इसे पहले से ज्यादा परिपक्व भी बनाती हैं। फ्लेम्स -3 अपने पिछले दो सीज़न की तरह ही एक फील-गुड सीरीज़ है। लेकिन इस बार आप मौलिकता से चूक गए। सीज़न 1 और सीज़न 2 में हमने कम उम्र के रोमांस और पात्रों को बेहतर होते देखा है। जबकि इस तीसरे सीजन में हम उन किरदारों की परिपक्वता देखते हैं। वे अपने रिश्ते को संतुलित करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। 12वीं की परीक्षा पास कर जीवन में करियर बनाने के लिए आगे बढ़ रहे हैं।

ezgif.com gif maker 45 2

flames सीजन 3 की कहानी

सीजन 3 की कहानी वहीं से शुरू होती है जहां से दूसरा सीजन खत्म हुआ था। रजत उर्फ ​​रज्जो (ऋत्विक सहोर), इशिता (तान्या मानिकतला), अनुषा (सोनाक्षी ग्रोवर), और पांडु (शिवम कक्कड़) अभी भी सनशाइन कोचिंग सेंटर में पढ़ रहे हैं। इस कोचिंग सेंटर को कौशल (दीपेश सुमित्रा जगदीश) और अभिजीत (साहिल वर्मा) चलाते हैं। हालांकि, जैसे ही आप सीरीज देखना शुरू करते हैं, इसका प्लॉट बदलने लगता है। इशिता ने अब रजत को फ्रेंड जोन बना लिया है। यह जानना और समझना कि मेरे मन में अभी भी उसके लिए प्रेममय भावनाएँ हैं। तो क्या इस रिश्ते का समीकरण फिर से बदलने वाला है? क्या प्यार जीतेगा और सुखद अंत देखेगा? यह जानने के लिए आपको शो देखना होगा।

फ्लेम्स सीजन 3′ का ट्रेलर

Flames सीजन 3 की समीक्षा

‘फ्लेम्स 3’ की कहानी पुनीत बत्रा और दीपेश सुमित्रा जगदीश ने लिखी है। दिव्यांशु मल्होत्रा ​​ने इसे डायरेक्ट किया है. यह बहुत धीमी गति से चलती है। लेकिन उसमें इमोशन बहुत है। विशेष रूप से पिछले दो एपिसोड माता-पिता और बच्चों के बीच संबंधों पर केंद्रित हैं। माता-पिता के लिए यह कोई नई बात नहीं है कि वे अपने बच्चों पर इंजीनियरिंग या चिकित्सा में करियर बनाने और इसे ‘छोड़ने’ के लिए जोर दें। यह बात हमने ‘3 इडियट्स’ जैसी कई फिल्मों और ‘कोटा फैक्ट्री’ जैसी कई वेब सीरीज में देखी है।

अपने पिछले सीजन की तरह इस बार भी ‘फ्लेम्स 3’ के हर एपिसोड का नाम पुराने गानों के नाम पर रखा गया है। एक एपिसोड है ‘जब चीजें गलत हो जाती हैं’, जिसमें रसायन विज्ञान के रूपकों का उपयोग करके स्थितियों को समझाया जाता है। दिल्ली के स्ट्रीट फूड के क्लोज-अप शॉट्स बहुत खूबसूरत हैं और आपकी भूख बढ़ा देंगे। मैगी के पल हों या गपशप का जमाना, ये सब आपको पुरानी यादों में सराबोर कर देता है। आप अपने जीवन और दोस्तों को याद करेंगे।

ऋत्विक साहोरे और तान्या मानिकतला ने अपने किरदारों को बड़ी मासूमियत से निभाया है। दोनों को देखकर आंखों को सुकून मिलता है। खासतौर पर तान्या अपने एक्सप्रेशन और चेहरे से पर्दे पर छा जाती हैं। सोनाक्षी ग्रोवर और शिवम कक्कड़ वैसे ही हैं जैसे पिछले सीजन में थे। वह शो में एक जीवंतता लाते हैं, जिसकी उसे भी जरूरत है। रजत के अत्याचारी पिता के रूप में पूर्णेंदु भट्टाचार्य सहायक कलाकारों में ठोस हैं। एक पिता जो अपने बेटों को इंजीनियर बनाने पर आमादा है। रजत की मां का किरदार नीलू डोगरा ने निभाया है। किसी भी मध्यमवर्गीय मां की तरह वह भी पिता-पुत्र के बीच बुरी तरह फंस गई है। राज शर्मा इशिता के पिता की भूमिका में हैं, जो एक दोस्त की तरह है। कुल मिलाकर सभी ने अपनी भूमिका बखूबी निभाई है। हालांकि, एक अड़चन यह है कि इनमें कुछ भी नया नहीं है।

क्यों देखें: कुल मिलाकर, फ्लेम्स 3 का दिल अपने पिछले दो सीज़न की तरह ही सही जगह पर धड़कता है। कुछ सीन बहुत अच्छे निकले हैं, खासकर रज्जो और इशिता के बीच की बातचीत। श्रृंखला में प्रत्येक 30-30 मिनट के पांच एपिसोड होते हैं। ऐसे में अगर आप दोस्ती, रोमांस और इमोशन्स से भरी कहानी देखना चाहते हैं तो ये आपकी पसंद बन सकती है.

ये भी देखें

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here