HomeEntertainmentAkshay Kumar की फिल्म रक्षाबंधन प्रेम की वो गाथा है जिस कहानी...

Akshay Kumar की फिल्म रक्षाबंधन प्रेम की वो गाथा है जिस कहानी को हम सभी को देखना चाहिए.

Raksha bandhan : बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार की फिल्म ‘रक्षा बंधन’ आज सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है. फिल्म के नाम से ही साफ है कि यह भाई-बहन के पवित्र रिश्ते पर आधारित है। लंबे समय के बाद बॉलीवुड जगत में एक ऐसी कहानी देखने को मिली है, जिसमें भाई-बहनों के अथाह प्यार को दिखाया गया है। एक मध्यमवर्गीय परिवार में भाई-बहन कैसे अपने सपनों को कुचलते हुए एक-दूसरे का सहारा बन जाते हैं, यह सिखाने के लिए इस फिल्म से बेहतर उदाहरण और कोई नहीं हो सकता। आनंद एल राय ने फिल्म के माध्यम से समाज की बुराइयों को उजागर करने की कोशिश की है। आइए आपको बताते हैं कि यह फिल्म देखना क्यों जरूरी है।

ezgif.com gif maker 15

फिल्म : रक्षा बंधन

लेखक : कनिका ढिल्लो और हिमांशु शर्मा

संगाीत : हिमेश रेशमिया

रेटिंग्स : 4/5

कास्ट : अक्षय कुमार, भूमि पेडनेकर, सादिया खतीब, स्मृति श्रीकांत आदि 

निर्देशक : आनंद एल. राय

निर्माता : आनंद एल. राय और हिमांशु शर्मा

दहेज प्रथा को चुनौती देने वाली फिल्म

फिल्म रक्षा बंधन में समाज की जिस बुराई को प्रमुखता से दिखाया गया वह है दहेज प्रथा। यह फिल्म दहेज प्रथा के खिलाफ एक चुनौती बनकर उभरी है। फिल्म में दहेज प्रथा को जिस तरह से दिखाया गया है, शायद लोग उसे देखकर समझ जाएंगे. फिल्म के निर्देशक ने जिस तरह से इसे पर्दे पर उतारा है वह काबिले तारीफ है।

अभिनय कैसा है?

अगर फिल्म में अभिनय की बात करें तो अक्षय की चार बहनों खासकर उनकी बहन गायत्री (सादिया खतीब) का अभिनय दमदार है। फिल्म की अन्य बहनों भूमि पेडनेकर और अक्षय की एक्टिंग भी शानदार है। अक्षय कुमार ने खुद अपने किरदार के साथ पूरा न्याय किया है।

प्रेम और त्याग का नाम है ‘रक्षाबंधन

अक्षय कुमार ने फिल्म रक्षाबंधन में जिस तरह से अपना वादा निभाया है, वह शायद हम सभी भाइयों के लिए एक सबक की तरह है। फिल्म की कहानी अक्षय कुमार और उनकी चार बहनों के इर्द-गिर्द बुनी गई है। फिल्म में अक्षय कुमार सभी को गोलगप्पे खिलाते हैं और अपनी चारों बहनों की शादी कराने की हर संभव कोशिश करते हैं. किसी न किसी तरह उनकी बहनों का रिश्ता टूट जाता है। अक्षय बचपन से ही एक लड़की (भूमि पेडनेकर) से प्यार करते हैं। लेकिन एक वादे की वजह से शादी करना आसान नहीं होता है। कहानी में जहां इमोशन हैं, वहीं ह्यूमर को जगह दी गई है। दूसरे शब्दों में कहें तो फिल्म आपको रुलाने के साथ-साथ हंसाती भी है।

बेहतरीन डायरेक्शन और सिनेमैटोग्राफी

फिल्म का निर्देशन आनंद एल राय ने किया था। आनंद एल. राय कहानी को बेहतरीन तरीके से पेश करने के लिए जाने जाते हैं। ऐसा ही उन्होंने फिल्म रक्षा बंधन में भी किया था। केयू मेहनान फिल्म के सिनेमैटोग्राफर हैं। वहीं अगर बोल की बात करें तो इरशाद कामिल ने फिल्म के गाने लिखे हैं और हिमेश ने इसे अपने संगीत से सजाया है.

देखें या नहीं 

यह फिल्म रक्षा बंधन एक बेहतरीन कहानी लेकर आई है। फिल्म में भाई और बहन के पवित्र रिश्ते को दिखाया गया है। भाई-बहनों ही नहीं, मुझे लगता है कि यह फिल्म समाज के हर वर्ग को देखनी चाहिए। जो कुछ बदलाव ला सकता है।

ये भी पढ़ें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular