HomeIndian Fact26 जनवरी Republic day और उसकी परेड के बारे में कुछ बेहद...

26 जनवरी Republic day और उसकी परेड के बारे में कुछ बेहद ही रोचक बातें | 26 January Fact | Republic day.

26 जनवरी के बारे में रोचक जानकारी

दोस्तों भारत में 26 जनवरी को एक राष्ट्रीय पर्व का दर्जा प्राप्त है. 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस भी कहा जाता है क्योंकि इसी दिन सन 1950 में हमारे देश में संविधान लागू किया गया था. ( Republic day ) इस दिन लगभग 2 लाख लोग गणतंत्र दिवस की परेड को देखने आते हैं. परेड के दौरान राष्ट्रपति को 21 तोपों की सलामी दिए जाने की प्रथा है. क्या आप जानते है कि 21 तोपों की यह सलामी 21 बंदूकों से नहीं, बल्कि भारतीय सेना की 7 तोपों से दी जाती है जिन्हें ’25 पाउंडर्स’ कहा जाता है. राष्ट्रगान शुरू होते ही पहली सलामी दी जाती है और ठीक 52 सेकंड बाद आखिरी सलामी दी जाती है. 26 जनवरी को पूरा भारत गणतंत्र दिवस के रूप में मनाता है, क्योंकि 26 जनवरी 1950 को 10 बजकर 18 मिनट पर भारत का संविधान लागू हुआ था। यह दिन देश भर में बहुत उत्साह और उत्साह के साथ मनाया जाता है। देशवासी नेशनल टीवी पर सुबह से ही परेड आयोजन कार्यक्रम देखने बैठ जाते हैं।

AVvXsEiSJQ pLGQg1Lds3VV3RNKup 7RAQABZ 1 OgQxZhCXYr9QbNHO3FCeMl3 DzxyQ3qoT

 

 

1. परेड से जुड़ी जानकारियां ( Republic Day )

  1. 26 जनवरी की परेड की शुरूआत राष्ट्रपति के आगमन के साथ होती है. सबसे पहले राष्ट्रपति के घुड़सवार अंगरक्षकों के द्वारा तिरंगे को सलामी दी जाती है, उसी समय राष्ट्रगान बजाया जाता है और 21 तोपों की सलामी दी जाती है. लेकिन क्या आप जानते है कि वास्तव में वहां 21 तोपों द्वारा फायरिंग नहीं की जाती है? बल्कि भारतीय सेना के 7 तोपों, जिन्हें “25 पौन्डर्स” कहा जाता है, के द्वारा तीन-तीन राउंड की फायरिंग की जाती है.ये भी पढ़ो 
  2. परेड के दिन परेड में भाग लेने वाले सभी दल सुबह 2 बजे ही तैयार हो जाते हैं और सुबह 3 बजे तक राजपथ पर पहुँच जाते हैं. लेकिन परेड की तैयारी पिछले साल जुलाई में ही शुरू हो जाती है जब सभी दलों को परेड में भाग लेने के लिए अधिसूचित किया जाता है. अगस्त तक वे अपने संबंधित रेजिमेंट केन्द्रों पर परेड का अभ्यास करते हैं और दिसंबर में दिल्ली आते हैं. 26 जनवरी की परेड में औपचारिक रूप से भाग लेने से पहले तक विभिन्न दल लगभग 600 घंटे तक अभ्यास कर चुके होते हैं.( Republic Day) 
  3. 26 जनवरी की परेड के लिए हर दिन अभ्यास के दौरान और फुल ड्रेस रिहर्सल के दौरान प्रत्येक दल 12 किमी की दूरी तय करती है जबकि परेड के दिन प्रत्येक दल 9 किमी की दूरी तय करती है. पूरे परेड के रास्ते पर जजों को बिठाया जाता है जो प्रत्येक दल पर 200 मापदंडों के आधार पर बारीकी से नजर रखते हैं, जिसके आधार पर “सर्वश्रेष्ठ मार्चिंग दल” को पुरस्कृत किया जाता है.
  4. परेड का सबसे रोचक हिस्सा “फ्लाईपास्ट” होता है. इस फ्लाईपास्ट की जिम्मेवारी पश्चिमी वायुसेना कमान के पास होती है जिसमें 41 विमान भाग लेते हैं. परेड में शामिल होने वाले विभिन्न विमान वायुसेना के अलग-अलग केन्द्रों से उड़ान भरते हैं और तय समय पर राजपथ पर पहुँच जाते है. REPUBLIC DAY 
  5. RTI से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्ष 2014 में 26 जनवरी की परेड के आयोजन में लगभग 320 करोड़ रूपये खर्च किये गए थे. जबकि 2001 में यह खर्च लगभग 145 करोड़ था. इस प्रकार 2001 से लेकर 2014 के दौरान 26 जनवरी की परेड के आयोजन में होने वाले खर्च में लगभग 54.51% की वृद्धि हुई है.
  6. 26 जनवरी की परेड के दौरान हर साल किसी ना किसी देश के प्रधानमंत्री/राष्ट्रपति/शासक को अतिथि के रूप में बुलाया जाता है. 26 जनवरी 1950 को आयोजित पहले परेड में अतिथि के रूप में इंडोनेशिया के राष्ट्रपति डॉ. सुकर्णो को आमंत्रित किया गया था. जबकि 1955 में राजपथ पर आयोजित पहले परेड में अतिथि के रूप में पाकिस्तान के गवर्नर जेनरल मलिक गुलाम मोहम्मद को आमंत्रित किया गया था.

2. 26 जनवरी के बारे में तथ्य ( Republic Day )

  1. भारत के पहले गणतंत्र दिवस के मुख्य अतिथि इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णो थे. Republic day.
  2. भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने 26 जनवरी 1950 को राष्ट्रपति पद के लिए सपत ली थी.
  3. भारतीय संविधान पूरी तरह हाथ से लिखा गया है जो हिंदी और अंग्रेजी दोनों में है. हाथ से लिखी गई संविधान की मूल कॉपी को हीलियम से भरे बक्सों में संसद भवन की लाइब्रेरी में रखा गया है.
  4. भारत के संविधान को डॉ. भीम राव अंबेडकर और उनकी टीम तैयार किया, जिसमें उन्हें 2 साल 11 महीने और 18 दिन लगे। संविधान सभा के अध्यक्ष अंबेडकर थे। जवाहरलाल नेहरू, डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, सरदार वल्लभ भाई पटेल, मौलाना अबुल कलाम आजाद आदि के प्रमुख सदस्य।भारतीय संविधान की दो प्रतियां हैं, एक अंग्रेजी में और एक हिंदी में और भारतीय संविधान की दोनों ही प्रतियां हाथ से लिखी गई हैं।
  5. गणतंत्र दिवस परेड के दौरान, एक भजन ‘एबाइड विद मी’। भजन महात्मा गांधी का पसंदीदा था।
  6. गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान भारत रत्न, पद्म भूषण और कीर्ति चक्र जैसे कई राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किए जाते हैं। गणतंत्र दिवस पर, भारतीय वायु सेना अस्तित्व में आई। इससे पहले, भारतीय वायु सेना नियंत्रण लेकिन गणतंत्र दिवस के बाद, भारतीय वायु सेना एक स्वतंत्र निकाय बन गई।
  7. 26 जनवरी 1950 को 10.18 मिनट पर भारत का संविधान लागू किया गया.
  8. मोर को भारत का राष्ट्रीय पक्षी 26 जनवरी 1963 को घोषित किया गया था
  9. 1950-54 तक, इरविन स्टेडियम (जिसे अब नेशनल स्टेडियम कहा जाता है), लाल किला, रामलीला ग्राउंड्स और किंग्सवे में गणतंत्र दिवस मनाया गया। पहली बार 1955 में राजघाट में मनाया गया था।
  10. परेड में भाग लेने वाले सेना के जवान स्वदेश में निर्मित “इंसास (INSAS)” राइफल लेकर चलते हैं जबकि विशेष सुरक्षा बल के जवान ईजराइल में निर्मित “तवोर (Tavor)” राइफल लेकर चलते हैं.Republic day.

3. निष्कर्ष

तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने आपको 26 जनवरी Republic day Fact के बारे में अद्भुत जानकारी बतायी है अगर आपको पसंद आयी है तो शेयर जरूर करना और कॉमेंट भी धन्यवाद
 

ये भी पढ़ें :-

 
 
 
 

Top 40 Animal fact in hindi

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular